1400 गज में बाबरी मस्जिद, बाकी जमीन पर हाईटेक अस्पताल, CM योगी को जाएगा न्योता

4601
Sunni Central Waqf Board-cm yogi

5 अगस्त 2020 को ही राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण की नींव रखी गई है. इस खास दिन को पूरे देश में उत्सव की तरह मनाया गया और अब उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड (Sunni Central Waqf Board) ने भी अपनी पांच एकड़ वाली जमीन को उपयोग में लाने की तैयारियां शुरू कर दी हैं और हैरानी वाली बात ये है कि, वक्फ बोर्ड पांच एकड़ वाली जमीन पर अस्पताल, लाइब्रेरी और रिसर्च सेंटर बनाएगा साथ ही प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) को शिलान्यास के लिए आमंत्रित किया जाएगा.

सीएम योगी को देंगे न्योता
शनिवार को ‘इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन’ ट्रस्ट के सचिव और प्रवक्ता अतहर हुसैन ने बताया कि, सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर अयोध्या जिले के धन्नीपुर गांव में जो 5 एकड़ जमीन सुन्नी वक्फ बोर्ड को मिली है. उस पर बोर्ड अस्पताल, लाइब्रेरी, सामुदायिक रसोईघर और रिसर्च सेंटर बनाएगा. इन सभी चीजों से जनता को सुविधा मिलेगी और इनके शिलान्यास के लिए सीएम योगी को न्योता दिया जाएगा. हुसैन ने कहा कि, वैसे भी प्रदेश के मुख्यमंत्री का काम अपने राज्य की जनता को सुविधा और सहूलियत देने का काम होता है.

जरूर आएंगे सीएम योगी
हुसैन ने भरोसा जताते हुए कहा कि, इस कार्यक्रम में सीएम योगी जरूर आएंगे साथ ही वो ‘जन सुविधाओं’ में अपना अहम सहयोग भी देंगे. अगर आपको याद हो तो, राम मंदिर की नींव डलते ही सीएम योगी ने एक निजी टीवी चैनल को इंटरव्यू दिया था. जिसमें उनसे सवाल हुआ था कि, अगर अयोध्या में मस्जिद निर्माण का कार्यक्रम होता है और उन्हें शिलान्यास के लिए बुलाया जाता है तो वो क्या जाएंगे. इस पर उन्होंने साफतौर पर इनकार करते हुए कहा था कि, न उन्हें बुलाया जाएगा और न ही वो जाने वाले हैं.

क्या मस्जिद का निर्माण नहीं होगा?
हुसैन ने पांच एकड़ जमीन पर हाईटेक अस्पताल समेत जनसुविधा केंद्र बनाने की बात कही तो उन्होंने ये भी कहा कि, वह मस्जिद का निर्माण सिर्फ 1400 गज में करेंगे क्योंकि, सिर्फ अयोध्या विवादित जमीन पर भी इतने ही क्षेत्रफल में बाबरी मस्जिद थी. इसलिए नई मस्जिद का निर्माण 1400 गज में होगा.

मुझे किसी धर्म से परहेज नहीं
सीएम ने कहा था कि, ‘अगर एक मुख्यमंत्री की हैसियत से सवाल कर रहे हैं तो मुझे किसी भी धर्म या समुदाय से परहेज नहीं है. पर अगर आप ये सवाल एक योगी के रूप में पूछ रहे हैं तो मैं बिल्कुल नहीं जाऊंगा. मुझे मालूम है कि मुझे इसके लिए न्योता नहीं दिया जाएगा.

क्या सीएम योगी रखेंगे मस्जिद की शिला?
शनिवार को ही हुसैन से जब पूछा गया कि, अगर सीएम योगी कार्यक्रम में शामिल होते हैं तो क्या वह मस्जिद की आधारशिला रखेंगे. इस पर हुसैन ने कहा कि, इस्लाम के सभी चार विचार केंद्रों हनफी, हम्बली, शाफई और मालिकी में से किसी में भी मस्जिद की नींव रखने के लिए कार्यक्रम आयोजित करने का प्रावधान नहीं है, तो इस सवाल का कोई आधार ही नहीं है. इसके अलावा उन्होंने कहा कि, ट्रस्ट द्वारा जो इमारत बनाई जाएगी उसका नाम भी तय नहीं हुआ है.

ये भी पढ़ेंः- मुगलकाल में जिन 50 परिवारों को जबरन बनाया मुस्लिम, राम मंदिर की नींव डलते ही बन गए हिंदू