7-year-old Dalit girl murdered after rape hardoi

बुलंदशहर/ लखनऊ । बुलंदशहर में आठ साल की बच्ची से हुई दरिंदगी के मामले में गुरुवार को न्यायालय का फैसला आ गया। स्पेशल जज पोक्सो एक्ट डॉ. पल्लवी अग्रवाल ने बालिका की अपहरण के बाद दुष्कर्म कर हत्या के मामले में अभियुक्त को फांसी और अर्थदंड की सजा सुनाई है। दोषी अभियुक्त ने घर पर पानी पीने आई बालिका को अगवा कर लिया। बालिका से दुष्कर्म करने के बाद हत्या कर शव को घर में ही गड्ढा खोदकर दबा दिया था। करीब साढ़े चार महीने में ही अदालत ने सख्त फैसला सुनाते हुए बच्ची के साथ इंसाफ कर दिया है।
विशेष अभियोजक सुनील कुमार शर्मा ने फैसले के बारे में बताया कि अनूपशहर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव की मूक बधिर बच्ची गत 25 फरवरी को खेत में कार्य करने गई थी। बालिका प्यास लगने पर जंगल में बने एक मकान में लगे नल पर पानी पीने गई थी। पानी पीने गयी बालिका के साथ दरिंदगी हुई। इस घर से ही किशोरी गायब हो गई। काफी तलाश करने के बाद परिजनों ने कोतवाली में गुमशुदगी की तहरीर दी थी।

पुलिस के काफी तलाश के दौरान एक घर से गड्ढे में दबा हुआ बालिका का शव बरामद हो गया। संदेह के आधार पर पुलिस ने आरोपी हरेंद्र को भी गिरफ्तार कर लिया। पुलिस की जांच में पता चला कि आरोपी हरेंद्र ने ही बालिका को अगवा कर उसकी दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी थी। मामले की सुनवाई स्पेशल जज पोक्सो एक्ट डॉ. पल्लवी अग्रवाल के न्यायालय में हुई।

न्यायाधीश ने गवाहों के बयान, साक्ष्यों का अवलोकन और दोनों पक्षों के अधिवक्ताओं की दलीलों को सुनने के बाद आरोपी हरेंद्र को दोषी पाया। बृहस्पतिवार को न्यायाधीश ने अभियुक्त हरेंद्र को फांसी और 1.20 लाख रुपये के अर्थदंड की सजा सुनाई है। न्यायालय के फैसले को लेकर पीड़िता के परिजनों ने न्याय की जीत करार दिया है।

यह भी पढ़ेंः-मॉडल के साथ रेप कर वायरल किया न्यूड वीडियो, पुलिस ने पति-पत्नी को किया गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here