Categories
उत्तर प्रदेश लखनऊ

17वीं विधानसभा के आखिरी सत्र में योगी सरकार इन योजनाओं के लिए लाएगी बजट तो विपक्ष रहेगा हमलावर

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बुधवार से विधानसभा का शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है, जो तीन दिन तक चलेगा। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होना है। ऐसे में माना जा रहा है कि यह 17वीं विधानसभा का आखिरी सत्र हो सकता है।
सियासी बदलाव को देखते हुए भाजपा का जोर जहां उत्तर प्रदेश की सत्ता में बने रहने का है। वहीं विपक्षी दल पूरी तैयारी के साथ मैदान में हैं। शीतकालीन सत्र पर इसका असर दिख सकता है। सपा, कांग्रेस समेत सभी विपक्षी पार्टियां भी अपने अपने स्तर पर भाजपा को घेरने की कोशिश में जुटी है। विपक्ष कानून व्यवस्था, महंगाई, कोरोना और लखीमपुर जैसे मुद्दों पर सदन में योगी सरकार पर हमलावर है।

माना जा रहा है कि सत्र के दौरान भाजपा कुछ बड़े ऐलान कर सकती है जिससे मतदाताओं को संदेश दिया जा सके। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पहले ही रैलियों में योगी सरकार पर जमकर निशाना साध रहे हैं। ऐसे में सपा की रणनीति रहेगी कि महंगाई, बेरोजगारी, कानून व्यवस्था जैसे मुद्दों पर घेरकर सरकार को बैकफुट पर लाया जाये। कांग्रेस और बसपा भी महंगाई और लखीमपुर मुद्दे पर सरकार के खिलाफ अपनी आवाज तेज करेंगे। लखीमपुर मुद्दा एक बार फिर चर्चा में है। इस मामले में जांच अधिकारी ने कोर्ट में पेश अपनी दलील में कहा है कि लखीमपुर हिंसा को जानबूझकर साजिश के तहत अंजाम दिया गया। जिससे पुलिस की लापरवाही सामने आयी है।

सदन में तीन दिन में ऐसी है तैयारी

सदन 15 से 17 दिसंबर तक चलेगा। पहले दिन देश के पहले सीडीएस बिपिन रावत समेत हेलिकॉप्टर क्रैश में जान गंवाने वाले सभी वीर सपूतों को श्रद्धांजलि दी जाएगी। इसके अलावा पूर्व स्पीकर और बसपा विधायक सुखदेव राजभर का 18 अक्टूबर को निधन हो गया था। ऐसे में उन्हें सदन उन्हें श्रद्धांजलि देकर गुरुवार तक के लिए स्थगित हो जाएगा।

सदन में पेश होगा अनुपूरक बजट और लेखानुदान

योगी सरकार सदन में 2021-22 के दूसरे अनुपूरक बजट, अंतरिम बजट और लेखानुदान को पेश करेगी। 17 दिसंबर को अनुपूरक बजट पर चर्चा होगी। इससे पहले बुधवार को सर्वदलीय बैठक होगी। बताया जा रहा है कि जुलाई तक के लिए जारी होने वाला ये लेखानुदान लगभग पौने दो लाख करोड़ रुपए का होने का अनुमान है।

इन योजनाओं के लिए चाहिए बजट

योगी सरकार बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे, पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे, गोरखपुर एक्सप्रेस-वे पर बचे हुए काम के लिए, जेवर एयरपोर्ट प्रोजेक्ट के लिए और साथ ही लैपटॉप-स्मार्टफोन जैसी योजनाओं के लिए और बजट जारी कर सकती है। कानपुर, आगरा, गोरखपुर मेट्रो के लिए भी बजट पास किया जा सकता है। सरकार इस सत्र में उत्तर प्रदेश जीएसटी (संसोधन) अध्यादेश 2021, यूपी मोटर व्हीकल टैक्सेशन (संसोधन) अध्यादेश, उत्तर प्रदेश अधिवक्ता कल्याणनिधि (संसोधन) अध्यादेश भी सदन में पेश करेगी।

यह भी पढ़ेंः-वाराणसी में PM मोदी और CM योगी तो अखिलेश पहुंचे जौनपुर, ऐसा है पूर्वांचल का सियासी समीकरण