Lakhimpur Kheri Case में SC ने बढ़ाई आरोपी आशीष मिश्रा मुश्किलें, रद्द की जमानत

लखीमपुर खीरी केस के आरोपी आशीष मिश्रा की मुश्किलें बढ़ गई है क्योंकि उनकी जमानत रद्द हो गई है।

0
241

लखीमपुर खीरी केस के आरोपी आशीष मिश्रा की मुश्किलें बढ़ गई है क्योंकि उनकी जमानत रद्द हो गई है। 1 हफ्ते में सुप्रीम कोर्ट ने सरेंडर करने के लिए बोला है। हाईकोर्ट ने पीड़ित पक्ष को नहीं सुना ऐसी बात अदालत ने कही है। जल्दबाजी में उन्हें जमानत दी गई हाई कोर्ट दोबारा मामला को सुने और चीफ जस्टिस एंड वी रमन न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ द्वारा सोमवार को यह फैसला दिया गया।

सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया जिसके बाद योगेंद्र यादव ने ट्वीट कर लिखा की देर है मगर अंधेर नहीं कम से कम इस केस में। शुक्रिया प्रशांत भूषण दुष्यंत दवे जी ज्ञात हो कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय की एकल पीठ ने 10 फरवरी को आशीष मिश्रा को जमानत दी थी इससे पहले वह 4 महीने तक हिरासत में रहे थे। आशीष मिश्रा को किसानों ने जमानत दिए जाने का विरोध जताया व सुप्रीम कोर्ट गए थे सुप्रीम कोर्ट ने आशीष मिश्रा की जमानत रद्द किए जाने के अनुरोध की किसानों की याचिका पर 4 अप्रैल को अपना फैसला सुनाया।

हाईकोर्ट के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट का सवाल

आशीष मिश्रा की जमानत याचिका मंजूर करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश पर सवाल उठाए थे और बोला था कि जब मामले की सुनवाई अभी शुरु होनी बाकी है तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट और चोटों की प्रकृति जैसी फिजूल बातों पर गौर न किया जाए। रिश्ते का कड़ा संज्ञान विशेष पीठ ने लिया कि क्या जो सरकार ने न्यायालय द्वारा नियुक्त विशेष जांच दल के सुझाव के हिसाब से उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ याचिका दायर नहीं की।

ज्ञात है कि किसानों का एक समूह बीजेपी के नेता केशव प्रसाद मौर्य के खिलाफ बीते साल 3 अक्टूबर को प्रदर्शन कर रहा था तभी लखीमपुर खीरी में एक कार ने किसानों को कुचल दिया इस बात से गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने बीजेपी के दो कार्यकर्ताओं और एक चालक को कथित तौर पर पीट पीट कर मार डाला में एक पत्रकार की मौत हुई थी।

Read More –खरगोन हिंसा में एक शख्स की हुई मौत,सद्दाम पढ़ने गया नमाज हो गया था लापता, इंदौर के हॉस्पिटल में मिली लाश