जोश में बाबा ने ली समाधि की प्रतिज्ञा, मौके पर पहुंची पुलिस तो मुकर गया बाबा, जानें पूरा मामला

0
150

देश में कोरोना संकट के बीच एक ऐसी खबर सामने आई है, जिसे देखने के बाद हर कोई हैरान रह गया. अब ऐसा क्यों हआ?, कैसे हुआ?, इन सब सवालों का जवाब आगे की खबर में है. दरअसल यूपी के हमीरपुर जिले में एक बाबा ने खुद को समाधि में धकेल दिया. बताया जा रहा है कि बाबा ने इस बात की प्रतिज्ञा ली थी कि मंदिर निर्माण कार्य शुरू कराया जाए अन्यथा मेरी समाधि बनाई जाए. इतना कहने के बाद इलाके के गांव वाले इकट्ठा हो गए. और वो भी बाबा की इस प्रतिज्ञा में साथ देने लगे. बैठ गए चौपाल डाल के जब तक बाबा तीन घंटे गड्ढे से बाहर नहीं निकले. आस-पास माहौल गरमा गया किसी ने पुलिस को सूचना कर दी. बाबा यहां समाधि ले रहे हैं. भू समाधि लेने की सूचना पर वहां पुलिस पहुंची और बाबा को थाने ले गई. हालांकि बाद में उन्हें छोड़ दिया गया, बाबा के भक्तों ने उनका फूल-मालाओं के साथ जोरदार स्वागत किया. बाबा का नाम गोविंद गिरी महाराज बताया जा रहा है.

ये भी पढ़ें:-बाबा रामदेव पर दर्ज हुई FIR, आचार्य बालकृष्ण भी हुए शिकार, कानूनी पचड़े में आए इनके भी नाम!

बता दें कि हमीरपुर में मौदहा कोतवाली क्षेत्र के परछछ गांव में भगवान भोले के मंदिर निर्माण का काम चल रहा है और वहीं यज्ञ का भी आयोजन किया गया था. इसमें भाग लेने के लिये राजस्थान से गोविंद गिरी महाराज नाम के बाबा को भी बुलाया गया था.

बाबा

बताया जा रहा है कि बाबा किसी बात से नाराज थे, उन्होंने क्रोध में आकर मंदिर के सामने खुद की समाधि बनाने का प्रण ले डाला. इसे देखते हुए आसपास के लोगों में हड़कंप का माहौल बन गया. इस दौरान बाबा की समाधि लेनी की ढेरों तस्वीरें वायरल हुई हैं जिसमें बाबा समाधि में उतरते और समाधि बंद करते हुए और ऊपर से मिट्टी डालते दिखाई दे रहा है.

बाबा

लेकिन पुलिस के सामने बाबा ने समाधि लेनी की बात से इनकार कर दिया तो पुलिस ने भी उसे छोड़ दिया है. जब पुलिस इस बाबा को पकड़ कर थाने ले गई तो यह पुलिस के डर से भू समाधि से मुकर गया और गड्ढे में तपस्या करने की बात करने लगा जबकि इसकी समाधि के अंदर जाते और बाहर आने की ढेरों फोटो, वीडियो वायरल हो चुके थे.

ये भी पढ़ें:-85 साल के साधारण से दिखने वाले इस किसान ने खोद दिए 16 तालाब, खुद पीएम मोदी कर चुके हैं तारीफ