amitbh thakur

लखनऊ। पुलिस महानिरीक्षक पद से जबरिया रिटायर अमिताभ ठाकुर के साथ एक बार फिर नया मामला हुआ है। शनिवार सुबह जब अमिताभ ठाकुर अपने घर से गोरखपुर की ओर निकले तो उन्हें गोमतीनगर में रोक लिया गया। पुलिस इस मामले में चुप्पी साधे हुए है। पुलिस अमिताभ ठाकुर को अवैध तरीके से रोकने का कारण भी नहीं बता रही है। अमिताभ ठाकुर को आशंका है कि पुलिस उनको गिरफ्तार करने की साजिश बुन रही है। ज्ञात हो कि इससे पहले अमिताभ ठाकुर ने तो 18 अगस्त को ही गोरखपुर जाने का कार्यक्रम घोषित कर दिया था। गोरखपुर जाने का उनका मकसद योगी के खिलाफ जन-जागरण शुरू करना था।

Amitabh thakur

कार्यक्रम के मुताबिक शनिवार 21 अगस्त अमिताभ को गोरखपुर के लिए रवाना होना था। 19 अगस्त को सरकार के आदेश पर अमिताभ ठाकुर को पुलिस भर्ती के महानिदेशक आरके विश्वकर्मा और महिला एवम् बाल सुरक्षा की अपर पुलिस महानिदेशक नीरा रावत ने दिल्ली के एक प्रकरण में बयान देने के लिए 23 अगस्त को अपने दफ्तर बुलाने का आदेश दे दिया। 21 अगस्त शनिवार की सुबह को गोरखपुर जाने के लिए अमिताभ ठाकुर घर से निकले ही थे कि अचानक गोमती नगर में ही सीओ के नेतृत्व ने पुलिस दल ने अमिताभ को रोक लिया। उन्हें रेल विहार के एक मकान में ले जाया गया। बताया जा रहा है कि उन्हें हाउस अरेस्ट किया गया है।

यह है मामला
घटनाक्रम तो साफ इशारा कर रहे हैं कि अमिताभ ठाकुर की घेराबंदी की जा रही है। उन्हें गोरखपुर जाने से रोका जा रहा है। अमिताभ ठाकुर को योगी के गृह जनपद में जाने से रोका जाए। ऐसा भी माना जा रहा है कि अमिताभ को गोरखपुर रोके जाने से सत्ताधारी दल के खिलाफ संदेश जाएगा।

यह भी पढ़ेंः-सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ जबरन रिटायर आईपीएस ने चुनाव लड़ने का किया ऐलान, ऐसा रहा है कॅरिअर