Etaawaha

इटावा। उत्तर प्रदेश के इटावा के सैफई में खौफनाक मामला सामने आया है। दो सगी बहनों से गैंगरेप से हड़कम्प मच गया है। इटावा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. बृजेश कुमार सिंह बताया कि पुलिस ने तीनों आरोपियों को से गिरफ्तार कर लिया है। पकड़े गए आरोपियों में दो एंबुलेंस चालक हैं जबकि तीसरा शातिर अपराधी है। गिरफ्तार तीनों आरोपियों को जेल भेज दिया है और दोनों बहनों की मेडिकल कराई जा रही है। सैफई थाना प्रभारी मो. हमीद सिद्दीकी ने बताया कि पुलिस टीम के साथ वे गश्त पर निकले थे। तभी सायरन की आवाज पर एक दुकान से निकलकर तीन लोग भागने लगे। सन्देह होने पर थाना प्रभारी ने गाड़ी खड़ी की तो देखा कि दुकान का आधा शटर खुला था। जब अंदर देखा तो रोती हुई एक महिला बैठी मिली। तब इन महिलाओं ने खुद के साथ हुई वारदात की जानकारी दी।

छोटी बहन ने पुलिस को बताया कि उसका अपने पति से विवाद चल रहा था। पति की शिकायत करने वह महिला थाना इटावा आई थी। उसके साथ उसकी बड़ी बहन भी गई थी। थाने में पति से समझौता करा दिया गया। जिसके बाद दोनों बहनें टेम्पो से शाम 6 बजे सैफई आयीं। वहां कुछ समय तक उन्होंने ऑटो का इंतजार किया। जब कोई साधन नहीं मिला तो दोनों बहनें अगले चैराहे पर आ गईं, तब तक अंधेरा बढ़ने लगा था। इसी बीच सांवले रंग का एक शख्स इन दोनों के पास आया। उसने इन दोनों बहनों को भरोसा दिलाया कि वे जहां जा रही हैं, उसे भी वहीं जाना है। बाद में इस शख्स का नाम हरकेश यादव पता चला। दोनों बहनें विश्वास में आकर उसके साथ चल पड़ीं।
रास्ते में हरकेश ने दोनो बहनों से कहा कि तुम लोग भूखी होगी, पहले खाना खा लो, फिर पहुंचा देंगे। जब दोनों बहनों ने मना किया तो हरकेश ने मारपीट की और जबरदस्ती होटल ले गया। वहां उसने फोन कर अपने साथी अश्वनी को बुला लिया।

खाना खाने के दौरान उन्होंने दोनों बहनों को जबरन शराब पिलाने की कोशिश की। जब दोनों बहनों ने पीने से इनकार किया तो हरकेश और अश्वनी ने जबर्दस्ती पिलाने की कोशिश की. होटल वाले ने भी इन दोनों की हरकतों का विरोध किया। तब दोनों आरोपियों ने होटल वाले के साथ भी गाली-गलौज की। हरकेश और अश्वनी दोनों बहनों को जबरन मोटरसाइकिल पर बैठाकर सैफई से बाहर रेलवे पुल के नीचे एक तिराहा पर ले गए। जहां कुछ दुकान व कमरे बने हुए हैं। यहां इन दोनों ने फोन करके अपने तीसरे साथी साहिल को बुलाया जो चार पहिया गाड़ी से आया। पीड़िताओं ने बताया कि तीनों ने हम दोनों बहनों को मारा पीटा और धमकाया। छोटी बहन ने कहा कि उसके बाद मेरी बहन को थप्पड़ मारा और एक कमरे में बंद कर दिया। इसके बाद हरकेश ने छत पर ले जाकर मेरे साथ बलात्कार किया। इस दौरान उसने जलते सिगरेट से मेरे पैर दागे। इसी दौरान पुलिस की गाड़ी का सायरन बजा तो वे तीनों हमें छोड़कर भागे।

नशे की हालत में तीनों आरोपी गिरफ्तार

पुलिस ने कहा कि नशे की हालत में तीनों आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं। गिरफ्तार आरोपियों में हरिकेश यादव ग्राम झींगुपुर, थाना सैफई का रहनेवाला है, जबकि अश्वनी और साहिल चैबेपुर थाना के. अश्वनी और साहिल मेडिकल यूनिवर्सिटी में प्राइवेट एंबुलेंस चलाते हैं। गैंगरेप का मुख्य आरोपी हरकेश यादव पहले भी 307 के मामले में जेल जा चुका है। आरोपियों के कब्जे से एक स्विफ्ट डिजायर कार, शराब की 2 बोतलें जब्त की गई हैं। सैफई थाना प्रभारी हामिद सिद्दीकी ने बताया कि पीड़ित बहनों की ओर से आए प्रार्थना पत्र के आधार पर आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही अमल में लाई है।

यह भी पढ़ेंः-अगवा कर गैंगरेप करने के आरोपी अब पहुंच गये पीड़िता के घर, महिला ने पति से कही ये बात