बस्ती : अयोध्या पर फैसला आने से पहले बस्ती में जारी हाई अलर्ट, संदिग्धों पर लगाई जा रही है पाबंदी

0
382
Loading...

राम मंदिर पर आने वाले फैसले को देखते हुए बस्ती जिला प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद नजर आ रही है। अभी तक बस्ती के सभी 17 थाना क्षेत्रों में 2 लाख से अधिक संदिग्ध लोगों पर पाबंदी लगाई जा चुकी है। इतना ही नहीं, आईबी की तरफ से भी नेपाल बॉर्डर के जरिये आतंकी गतिविधि होने की आशंका जताई गई है, जिसे लेकर आईजी ने बताया कि फ़ोर्स पूरी तरह से अलर्ट है। इसके अलावा उपद्रवियों को काबू में करने लिए अस्थायी जेलों का भी चिन्हीकरण किया गया है।

वहीं, इसके इतर समाज के उन सभी असामाजिक तत्वों पर पाबंदी लगाने की पुरजोर कोशिश की जा रही है, जो कोर्ट का फैसला आने से पहले सामाजिक सद्भाव को बिगाड़ने की कोशिश कर सकते हैं। इसके साथ ही डीएम ने इस सन्दर्भ में अपनी तैयारियों का खाका पेश करते हुए कहा कि कोर्ट का फैसला आने पहले हम इंटरनेट सेवा बंद करने पर विचार-विमर्श कर रहे हैं। ये भी पढ़े :राम मंदिर के फैसले से पहले जमीयत उलेमा ए हिन्द का बड़ा बयान, मंदिर तोड़कर नहीं बनाई गई थी मस्जिद 

इसके साथ ही राम मंदिर पर कोर्ट का फैसला आने से पहले बस्ती के डीएम और एसपी ने पुलिस लाइन प्रेक्षागृह में बैठक की। इसमें पुलिस महानिरीक्षक बस्ती परिक्षेत्र आशुतोष कुमार, जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन व पुलिस अधीक्षक हेमराज मीणा ने रामजन्म भूमि प्रकरण पर सर्वोच्च न्यायालय के संभावित निर्णय के दृष्टिगत प्रशासनिक तैयारियों पर चर्चा की।

बैठक में फोर्स का व्यवस्थापन, विवाद उत्पन्न करने वाले व्यक्तियों की पहचान, राजनीतिक व धार्मिक लोगों के संबंध में चर्चा की गई। सुरक्षा की दृष्टि से जनपद को चार जोन व 16 सेक्टर में बांटा गया है। एक सुपर जोन बनाया गया है। इसके प्रभारी एडीएम और एएसपी होंगे। इसके अलावा चार कंट्रोल रूम भी स्थापित किए गए हैं। जोन के हेड क्षेत्राधिकारी व उप जिलाधिकारी होंगे। सेक्टर हेड तहसीलदार व नायब तहसीलदार होंगे। अगर कोई विशेष समस्या आती है तो रुट डायवर्जन प्लान भी तैयार है। गांवो में पुलिस व प्रशासन की ओर से लगातार बैठक की जा रही है। ये भी पढ़े :दिवाली के मौके पर पीएम मोदी के मन की बात ; जब राम मंदिर पर फैसला आया था तो संयम बरता था 
रजनीश कुमार पाण्डेय की रिपोर्ट बस्ती 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here