हाथरस मामले में प्रदर्शन कर रहे चंद्रशेखर आजाद हुए लापता! पीड़ित परिवार के साथ जा रहे थे भीम आर्मी चीफ

214
Missing Chandrashekhar Azad

हाथरस मामले (Hathras case) पर देशभर के लोग नाराजगी जता रहे हैं. एक फिर योगी की प्रशासन व्यवस्था पर कई तरह के सवाल खड़े होने लगे हैं. गैंगरेप के आरोपियों के खिलाफ लोग सड़कों पर उतर आए हैं और दरिंदो को फांसी पर चढ़ाने की मांग कर रहे है. इस मामले में राजनेता से लेकर कई बड़े सेलेब्स और आम नागरिक भी कानून व्यवस्था के खिलाफ अपना गुस्सा दिखा रहे हैं. इसी बीच आजाद के साथियों की ओर से प्रदेश पुलिस पर ये आरोप लगाया गया है कि, भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) और दिल्ली इकाई के प्रमुख हिमांशु वाल्मीकि को उस दौरान यूपी की पुलिस (UP Police) ने गिरफ्तार कर लिया, जिस समय वो दिवंगत पीड़िता के परिवार वालों के साथ हाथरस (Hathras Gangrape Case) के लिए रवाना हुए थे.

ये भी पढ़ें:- हाथरस केस पर अब PM मोदी ने CM योगी को दिया निर्देश, दोषियों के खिलाफ ऐसी कार्रवाई करने की कही बात

हालांकि अलीगढ़ के बड़े आला अधिकारियों ने इस तरह की कोई भी खबर मिलने से साफ इनकार किया है. फिलहाल आजाद समाज पार्टी के पदाधिकारियों की माने तो दोनों बीते दिन यानी मंगलवार की रात 10 बजे से ही गायब हैं. कहा जा रहा है कि उस समय वो हाथरस में हैवानों की दरिंदगी की शिकार हुई दिवंगत पीड़िता के परिजनों के साथ जा रहे थे. गौरतलब है कि सफदरजंग अस्पताल में जिंदगी और मौत से जंग लड़ रही पीड़िता ने मंगलवार को हॉस्पिटल में ही अंतिम सांस ली थी. इस घटना के सामने आने के बाद पीड़िता के परिवार को इस मामले में न्याय दिलाने के लिए आजाद समाज पार्टी और दलित संगठन भीम आर्मी के लोगों ने मंगलवार को ही दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल के बाहर जमकर धरना प्रदर्शन भी किया था.

इस मामले में आजाद समाज पार्टी की कोर समिति के सदस्य रविंद्र भाटी की ओर से बयान दिया गया है कि, ‘जेवर टोल प्लाजा के पास पहुंचने के बाद से आजाद और वाल्मीकि के बारे में कोई जानकारी हाथ नहीं लग पा रही है.’ साथ ही उन्होंने यूपी पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा है कि रात में ही आजाद और वाल्मीकि को हिरासत में लिया गया है, लेकिन इसके बावजूद पुलिस प्रशासन इस खबर को पब्लिक से छुपा रही है.

हालांकि रविंद्र भाटी की तरफ से ये बात भी कही गई है कि, ‘‘आजाद और वाल्मीकि के बारे में जानकारी इकट्ठा करने के लिए हमारे प्रतिनिधियों का एक समूह पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों से मिलकर बात करेगा.’’ तो वहीं इस आरोप के बारे में जब अलीगढ़ के ही एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी से बात की गई तो उन्होंने ऐसे किसी भी दावे की जानकारी न होने की बात कही. जबकि पीटीआई भाषा की माने तो इस खबर के बारे में जिला पुलिस प्रमुख और कुछ अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से कोई बातचीत नहीं हो सकी है, क्योंकि कुछ पुलिस अधिकारियों का कहना है कि वो कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं. इसके कारण कई दिनों से उन अफसरों का इलाज हो रहा है.

ये भी पढ़ें:- हाथरस की बेटी का दर्द सुन तिलमिलाया पवन जल्लाद, मुझे मिले फांसी देने का मौका