हाथरस के बहाने यूपी में जातीय दंगे भड़काने की साजिश, रातों-रात बनी वेबसाइट, दिए गए निर्देश

191
hathras-conspiracy-incite-ethnic-riots

उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) का मामला अभी सुलझा नहीं था कि यूपी सुरक्षा एजेंसियों ने बड़ा दावा करते हुए कहा कि, यूपी में हाथरस कांड के बहाने जातीय दंगों की आग भड़काने की साजिश रची गई और इसके लिए रातों-रात एक फर्जी वेबसाइट भी बनाई गई. हाल ही में आई इस खबर से हड़कंप मच गया है क्योंकि हाथरस कांड पर लगातार बहस जारी है. ऐसे में सुरक्षा एजेंसियों का हिंसा का दावा करना एक बड़ी खबर है. रिपोर्ट में दावा किया गया कि, इस वेबसाइट पर हजारों लोगों को जोड़ने की बात कही जा रही है और वेबसाइट जस्टिस फॉर हाथरस नाम से बनाई गई.

हाथरस के बहाने दंगे भड़काने की साजिश
दावा किया जा रहा है कि, इस वेबसाइट में हाथरस कांड को लेकर कैसे-कैसे हिंसा की आग भड़कानी है उस बारे में भी विस्तार से बताया गया है. पता तो ये भी चला है कि, हिंसा फैलाने के लिए बनाई गई वेबसाइट के लिए फंडिंग का इंतजाम मदद के नाम पर किया जा रहा है.

किसने रची हिंसा की साजिश
सबसे बड़ी खबर इस मामले पर ये भी आई है कि, जिन लोगों ने हाथरस के बहाने हिंसा भड़काने की साजिश रची है उसमें PFI, SDPI जैसे संगठन शामिल हैं और यही संगठन नागरिकता कानून के खिलाफ भी हिंसा में शामिल थे और इन्हीं लोगों ने वेबसाइट तैयार करने में अहम भूमिका निभाई है.

साइट पर दिए गए निर्देश
वेबसाइट पर दंगा कैसे भड़काना है इस बारे में सबकुछ बताया गया है और निर्देश दिए गए हैं. इसमें कहा गया कि, वैस्लीन, सनस्क्रीन, तेल ना लगाएं, इससे केमिकल का असर होगा और कॉन्टेक्स लैंस न पहनें. खुले और लंबे बाल ना रखें और ब्रैडेंड कपड़े बिल्कुल न पहनें क्योंकि इससे पकड़े जाने का खतरा होता है. काले और ढीले कपड़े ही पहनें. आंखों को टियर गैस से बचाने के लिए स्वीमिंग चश्में पहने और पानी में भीगी पट्टी बांधे, इससे केमिकल से बचाव होगा. आसानी से भागने के लिए पैरों में स्नीकर पहनें. किसी भी घटना से पहले दंगे वाली जगह का प्लान करें और छुपने की जगह भी पहले से ही तय करें. पुलिस द्वारा कार्रवाई की वीडियो बनाएं. कैश का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें. जैसे निर्देश इस वेबसाइट पर दिए गए हैं.

कांग्रेस की आई प्रतिक्रिया
सुरक्षा एजेंसियों द्वारा सामने आए इस दावे के बाद कांग्रेस पार्टी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि, सरकार अपनी नाकाम छुपाने की कोशिश कर रही है और सीएम योगी गैरजिम्मेदार बयानबाजी कर रहे हैं. कांग्रेस प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह का कहना है कि, ”मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि हिंसा की साजिश हो रही है. खुद कार्रवाई नहीं कर पा रहे है, अपनी भूमिका पारदर्शी तरीके से नहीं दिखा रहे हैं. कौन उत्तेजक बातें कर रहा है, कौन सभाएम कर रहा है धारा 144 के बावजूद.”

ये भी पढ़ेंः- हाथरस कांड: BJP नेता का विवादित बयान, कहा- बलात्कार रोकने के लिए जवान बेटियों को संस्कारी बनाएं मां-बाप