Categories
उत्तर प्रदेश लखनऊ

गोरखपुर से शामली तक बनेगा ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस वे, UP के इन बीस जिलों को मिलेगी गति

गोरखपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्वांचल का एक और तोहफा देने वाले हैं। अब गोरखपुर को एक नए एक्सप्रेस-वे का तोहफा मिलने वाला है। 500 किलोमीटर लंबा ये एक्सप्रेस-वे गोरखपुर के सोनौली फोरलेन पर पीपीगंज के पास से शुरू होकर उत्तर प्रदेश के 20 जिलों से गुजरते हुए शामली तक जाएगा। यह एक्सप्रेस-वे पूरी तरह से ग्रीन फील्ड होगा। ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस वे के लिए नए सिरे से जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा। नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने इसका डीपीआर बनाने के लिए कंसलटेंट की नियुक्ति कर दी है। गोरखपुर- शामली एक्सप्रेस-वे पंजाब-नार्थ-ईस्ट कॉरिडोर का एक हिस्सा है। अंबाला से शामली तक करीब 110 किलोमीटर लंबे एक्सप्रेस-वे का निर्माण शुरू हो गया है। अंबाला से शामली तक एक्सप्रेस वे 2024 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

गोरखपुर से तीसरा एक्सप्रेस वे

गोरखपुर-शामली एक्सप्रेस वे यहां से शुरू होने वाला तीसरा एक्सप्रेस-वे होगा। इसके पहले गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे पर तेजी से काम चल रहा है। 50 फीसदी से अधिक काम इस एक्सप्रेस वे पर हो चुका है। इसी साल यह एक्सप्रेस-वे आजमगढ़ में जाकर पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से मिल जाएगा। जिससे दिल्ली जाने का एक और बेहतर रास्ता लोगों को मिल जाएगा। इसी के साथ गोरखपुर से सिलीगुड़ी तक 519 किलोमीटर लंबे एक्सप्रेस-वे की डीपीआर भी तैयार किया जा रहा है। गोरखपुर से सिलीगुड़ी के मध्य बनने वाले एकप्रेस वे कई राज्य एक साथ जुड़ेंगे।

गोरखपुर-शामली एक्सप्रेस-वे बन जाने के बाद गोरखपुर से अंबाला की दूरी करीब 300 किलोमीटर कम हो जायेगी। उत्तर प्रदेश के 10 जिले पहली बार किसी एक्सप्रेस-वे से जुड़ेंगे। गोरखपुर-शामली एक्सप्रेस-वे के बनने से यूपी के तराई के जिलों में विकास को और गति मिलेगी। केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी का मानना है कि अमेरिका इसलिए विकसित देश है, क्योंकि उनके पास बेहतर सड़के हैं। अब देश में भी उसी तर्ज पर सड़कें बनाई जा रही हैं।

यह भी पढ़ेंः-शिलान्यास आज : गंगा एक्सप्रेस-वे से मोदी रुहेलखंड और अवध पर साधेंगे निशाना