विकास दुबे के खजांची और 3 भाईयों पर गैंगस्टर कार्रवाई, कार में लगा था सचिवालय का पास

282
jai vajpayee and his brother gangster case

गैंगस्टर विकास दुबे का भले ही अंत हो चुका है लेकिन उसके गुर्गों पर हर दिन एक नया खुलासा हो रहा है. अब नजीराबाद पुलिस ने गैंगस्टर के खजांची जय बाजपेई और उसके तीन भाइयों पर गैंगस्टर एक्ट का मामला दर्ज कर कार्रवाई की है. वैसे तो जय बाजपेई पुलिस की गिरफ्त में है और उस पर बिकरू कांड में मदद के तौर पर 25 कारतूस, असलहा और 2 लाख रुपये विकास दुबे को देने का आरोप है. जय बाजपेई इतना बड़ा अपराधी है कि उसके खिलाफ कई थानों में केस दर्ज हैं लेकिन ये भी विकास की तरह पुलिस से बचता रहा था. पर अब बिकरू कांड के बाद से पुलिस विकास दुबे के 8 साथियों को हिरासत में ले चुकी है.

जय बाजपेई पर खुलासा
इंस्पेक्टर नजीराबाद ज्ञान सिंह का कहना है कि, मामले की जांच करते हुए जब जय बाजपेई का पुराना इतिहास खंगाला गया तो पता चला कि, उस पर डकैती, बलवा, मारपीट, लूट, आर्म्स एक्ट समेत आधे दर्जन केस दर्ज हैं. इसके अलावा जो जय की करोड़ों की प्रॉपर्टी प्रदेश के अलग-अलग क्षेत्रों में है वो भी उसने लोगों को डरा-धमकाकर खड़ी है. यानि सब कुछ इसमें भी आपराधिक संलिप्तता है. मामले पर इंस्पेक्टर का कहना है कि, बिकरू कांड की जांच खत्म नहीं हुई है. उन्होंने प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग को जय की करोड़ों की संपत्ति की जानकारी दे दी. जिसकी जांच हो रही है.

सचिवालय के पास में झोल
घटना के बाद जिन 3 कारों से विकास दुबे और उसके साथी घटनास्थल से फरार हुए थे वो भी जय बाजपेई की ही थी. जिसमें बड़ा झोल था. दरअसल, जय ने फॉरच्यूनर कार में 0828 नंबर का विधायक का पास लगाया हुआ था और ये नंबर अलीगंज एटा के विधायक सतपाल सिंह का था. जब इसकी जांच हुई तो मालूम हुआ कि, जय ने इस पास को स्कैन करके बनवाया था. यानि जब विधायक की कार खड़ी हुई थी तभी जय ने कार में लगे पास को स्कैन किया और इस साजिश का हिस्सा बना लिया.

तीन कार अलग-अलग नामों पर
जय बाजपेई की तीनों कारों की जानकारी देते हुए सीओ ने कहा कि, उसने घटना के बाद जिन कारों को फरार करने में इस्तेमाल किया वो तीनों ही अलग-अलग नाम पर हैं. ऑडी भाजपा नेता प्रमोद विश्वकर्मा, फॉरच्यूनर राहुल सिंह और वेरना कपिल सिंह के नाम पर है. इसके बाद पुलिस ने उन शोरूम्स की जांच-पड़ताल की जहां से कारों को खरीदा गया था. तो पता चला कि, कार खरीदने से लेकर घर ले जाने व अन्य जगहों की तस्वीरों में जय अपने पूरे परिवार के साथ है और अब सबूतों के आधार पर आगे की कार्रवाई शुरू हो चुकी है. सीओ ने कहा, राहुल सिंह की पत्नी ने कई सबूत अधिकारियों को दिए हैं जिन्हें जांच में शामिल कर लिया गया है. फिलहाल मामले की जांच जारी है.

ये भी पढ़ेंः- यूपी के दो जांबाज बेटों ने बढ़ाई देश की शान, फ्रांस से उड़ाकर लाए लड़ाकू विमान, दुश्मन की हालत खराब!