Thursday, January 28, 2021
Home उत्तर प्रदेश फिर दोहराया निर्भया कांड, दंरिदों ने 50 साल की महिला के गुप्तांग...

फिर दोहराया निर्भया कांड, दंरिदों ने 50 साल की महिला के गुप्तांग में डाली रॉड, पैर और पसली भी तोड़ी

एक बार फिर देश में निर्भया जैसा कांड दोहराया गया है. हैवानियत भरा मामला उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बदायूं का है. जहां एक महिला के साथ आरोपियों ने पहले गैंगरेप किया और फिर रॉड जैसी चीज प्राइवेट पार्ट में डाल दी. जिस कारण अंदरूनी हिस्सा जख्मी हो गया. मामले पर पुलिस ने दो आरोपियों को हिरासत में ले लिया है जबकि एक अन्य आरोपी फरार है. आरोपी को पकड़ने के लिए पुलिस की चार टीमें लगाई गई हैं. साथ ही एसएसपी ने उघैती थानाध्यक्ष को लापरवाही बरतने पर निलंबित कर दिया है. मंगलवार की शाम सामने आई महिला की पोस्टमार्टम रिपोर्ट को देखकर सिर्फ लोग ही नहीं बल्कि डॉक्टर्स भी हैरान हैं.

पीड़ित महिला की मौत
शर्मनाक दरिंदगीं का मामला जिले के उघैती थाना क्षेत्र के एक गांव का है. जहां बीते 3 जनवरी को महिला गांव में स्थित एक मंदिर गई थी. हालांकि, इस मंदिर में महिला रोजाना दर्शन के लिए जाती थी और घटना वाले दिन भी गई थी. पुलिस की मानें तो देर रात मंदिर के महंत ने महिला का शव बोलरे से घर के दरवाजे पर फेंका और भाग गया. कहा जा रहा है कि, शव घर के पास फेंकने से पहले महंत महिला को इलाज के लिए चंदौसी लेकर गया था. पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर आरोपी महंत समेत उसके चेले व ड्राइवर के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दर्दनाक खुलासा
बताया जा रहा है कि, महिला की मौत अधिक खून बहने व सदमा लगने से हुई है. पोस्टमार्टम में सबसे ज्यादा जो दर्दनाक खुलासा हुआ है वो ये कि, महिला की बाईं पसली और बायां पैर टूट गया था और फेफड़ों पर किसी वजनदार चीज से प्रहार किया गया था. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में महिला के गुप्तांग में चोटे के निशान मिले हैं. कहा जा रहा है कि, आरोपियों ने गैंगरेप के बाद महिला के गुप्तांग में लोहे की रॉड जैसी चीज से हमला किया था और इस रिपोर्ट को देखकर अफसरों से लेकर डॉक्टर्स काफी हैरान हैं. क्योंकि आरोपियों ने हैवानियत की सारी हदें पार करते हुए महिला की हत्या कर दी. लेकिन एक बार भी आरोपियों का दिल नहीं पसीजा. जिस तरह के घाव महिला को दिए गए हैं वो वाकई बहुत दर्दनाक है. इससे ज्यादा हैरान करने वाली बात ये है कि, महिला की उम्र 50 साल थी और अधेड़ उम्र की महिला के साथ आरोपियों ने घिनौनी वारदात को अंजाम दिया है.

44 घंटे बाद पोस्टमार्टम
मामले पर मृतक महिला के परिजनों का आरोप है कि, उघैती के थानेदार रावेंद्र प्रताप सिंह ने परिजनों की फरियाद को दरकिनार करते हुए घटनास्थल का मुआयना तक करना जरूरी नहीं समझा. पहले पुलिस ने परिजनों को थाने के चक्कर लगवाए और कहा कि महिला की मौत कुएं में गिरने से हुई है. परिजनों का कहना है कि, पुलिस मामले को रफा-दफा करना चाहती थी और बहुत दबाव डालने के बाद मामला दर्ज किया गया. मामला दर्ज होने के बाद सोमवार को महिला की लाश पोस्टमार्टम के लिए भेजी गई. जहां महिला डॉक्टर समेत तीन डॉक्टरों के पैनल ने पोस्टमार्टम किया और रिपोर्ट देखकर उनके भी होश उड़ गए.

ये भी पढ़ेंः- निर्भया केस पर IPS छाया शर्मा ने तोड़ी चुप्पी, जांच में निभाई थी अहम भूमिका

Most Popular