Categories
उत्तर प्रदेश लखनऊ

एक मंच के नीचे दिव्यांगों के लिए सब कुछ, व्यवस्था देख भावुक हो गये लाभार्थी

  • रोजगार, प्रमाणपत्र, उपकरण देख खिले दिव्यांगों के चेहरे
  • समर्थ दिव्यांगजन शिविर में लाभार्थियों की साकार हुई उम्मीदें
  • कृष्णानगर में मंत्री स्वाती सिंह ने लगवाया शिविर, दिव्यांगों मिले उपकरण

लखनऊ। मेरा बच्चा जन्म से ही दिव्यांग है। चौदह वर्ष का हो चुका है। कई बार सीएमओ आफिस गयी लेकिन वहां सर्टिफिकेट भी नहीं बन पाया। यह तो सरोजनगर विधायक व प्रदेश में राज्यमंत्री का दया भाव है जो यहां शिविर लगवाईं और हमारा आवेदन भी ले लिया गया। यह कहते-कहते जन्म से ही बोलने-चलने में अक्षम बुद्धेश्वर से आयी आर्यन की मां की आंखों में आंसू छलक आये। यह हकीकत एक की नहीं, सैकड़ों दिव्यांगों की है, जो दिव्यांग उपकरण के लिए आये रहे। शनिवार को कानपुर रोड स्थित कृष्णानगर में उत्तम लान में दिव्यांगजनों के लिए एक ही जगह नौकरी से लेकर ट्राइ साइकिल, चलित दुकान, नौकरी के लिए आवेदन, स्मार्ट फोन, कम्बल वितरण दिव्यांग प्रमाण पत्र, बस व ट्रेन पास आदि के लिए स्टाल लगाये गये थे। स्वाती सिंह ने समर्थ दिव्यांगजन नाम से लगे शिविर में एक-एक दिव्यांगों से मिलकर उनकी व्यथा को समझा। उन्होंने सभी दिव्यांगी की समस्याओं से अवगत हो कर निदान कराया।

swati singh camp

पीजीआई के पास से आये दोनों पैर से दिव्यांग कमलेश ट्राई साइकिल के लिए आवेदन किये थे। उन्होंने बताया कि स्वाती सिंह हर वक्त कमजोर वर्ग के लोगों की मदद करती रही हैं। इसी क्रम में उन्होंने यह शिविर लगवाया है। उन्होंने स्वाती सिंह को धन्यवाद देते हुए कहा कि अब तक हम बेरोजगार थे। इससे हमें अब रोजगार मिल जाएगा। इसी तरह के बातें गौरीगांव सरोजनीनगर से आये गोविंद प्रसाद ने कही।

कार्यक्रम के बाद मुलाकात के दौरान स्वाती सिंह ने कहा कि हम सेवाभाव से काम करते हैं। यह हमारे लिए वोट का जरिया नहीं है। यह हमारा कर्तव्य है, जिसका निर्वहन कर रही हूं। मैं हमेशा यही कोशिश करती हूं कि जो भी योजनाओं से वंचित हैं, उन सभी तक योजना पहुंच सके।

यह भी पढ़ेंः-नट बस्ती में पहुंची मंत्री स्वाती सिंह तो झोपड़ी की महिलाओं ने बतायी ये बात