स्टार प्रचारकों पर हो रहे हमले पर चुनाव आयोग सख्त, राज्य सरकारों को ये निर्देश

0
417
babita fogat
  • असदुद्दीन ओवैसी के बाद बबीता फोगाट पर हमला

नई दिल्ली। यूपी में विधानसभा चुनाव के बीच नेताओं की सुरक्षा बड़ा मुद्दा बन गया है। नेताओं से नाराजगी, साजिश और हमले ने चुनाव आयोग को संज्ञान लेने को मजबूर कर दिया है। मेरठ से दिल्ली लौटते समय टोल प्लाजा के पास असदुद्दीन ओवैसी पर हमला हुआ था। इसके बाद शनिवार को भारतीय जनता पार्टी की स्टार प्रचारक बबीता फोगाट के काफिले पर भी हमला हुआ। अब चुनाव आयोग ने इस पर संज्ञान लिया है। चुनाव आयोग ने कहा कि राज्य सरकारें पर्याप्त सुरक्षा मुहैया करायें।

asuddin owaisi

ओवैसी पर हुए हमले के बाद पश्चिमी यूपी में डोर टू डोर कैंपेन के दौरान नेताओं की सुरक्षा को लेकर चुनाव आयोग ने संज्ञान लेते हुए चिंता जताई है। चुनाव आयोग ने स्टार प्रचारकों की सुरक्षा पर निर्देश दिए हैं चुनाव आयोग ने कहा कि इसे लेकर नोडल अफसरों की नियुक्ति की जानी चाहिए। वहीं सुरक्षा व्यवस्था के पर्याप्त इंतजामों की निगरानी करें जिससे सभी को निष्पक्ष प्रचार करने का मौका मिले।

शनिवार को बीजेपी की स्टार प्रचारक बबीता फोगाट मेरठ में सिवालखास विधानसभा क्षेत्र के गांव दबथुवा में भाजपा कैंडिडेट मनिंदर पाल के समर्थन में प्रचार कर रही थीं। चुनाव प्रचार के दौरान कुछ लोगों ने विरोध किया और लाठी-डंडे लेकर आ गये। बबीता फोगाट के काफिले पर ताबड़तोड़ हमला करना शुरू कर दिया। इससे पहले 3 फरवरी को मेरठ में असदुद्दीन ओवैसी पर हमला हुआ था। ओवैसी की गाड़ी पर चार राउंड फायरिंग की गई। हमले के बाद ओवैसी ने कहा था कि उन पर मेरठ से लौटते वक्त फायरिंग की गई। इस मामले में ओवैसी ने कहा था कि हमलावर ने मुझे निशाना बनाते हुए गोलीबारी की थी। ज्ञात हो कि ओवैसी पर हमले के बाद उन्हें जेड कैटेगरी की सुरक्षा दी गयी जिसे उन्होंने मना कर दिया।

ये भी पढ़ेंः-गोली से तो बच गये ओवैसी लेकिन पत्नी ने कहा, नई कहानी बना रहे हो