varun gandhi

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर कांड पर एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी सांसद वरुण गांधी का बड़ा बयान दिया है। रविवार को वरुण गांधी ने अपने ट्वीट में दावा किया कि लखीमपुर खीरी को हिंदू बनाम सिख की लड़ाई में बदलने की कोशिश की जा रही है। यह न केवल एक अनैतिक और झूठा आख्यान है बल्कि इन फॉल्ट-लाइन्स को बनाना और उन घावों को फिर से कुरेदना खतरनाक है जिसे ठीक करने में एक पीढ़ी लग गई। हमें राष्ट्रीय एकता से ऊपर राजनीतिक लाभ नहीं रखना चाहिए। वरुण गांधी ने सीधे-सीधे लखीमपुर खीरी घटना को राष्ट्रव्यापी हिंसा में बदलने की कोशिश का आरोप लगाया हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा करना गलत है। अपराध, हिंसा को हिंसा के नजरिये से देखा जाना चाहिए।

वरुण गांधी किसानों के प्रदर्शन को लेकर कई बार अपना असंतोष जाहिर कर चुके हैं। राष्ट्रीय कार्यकारिणी की घोषणा के एक दिन पहले भी उन्होंने लखीमपुर खीरी की घटना के संदर्भ में सरकार की मंशा पर सवाल उठाए थे। इससे पहले वरुण गांधी उत्तर प्रदेश में गन्ना किसानों के लिए कीमत बढ़ाये जाने की भी सरकार से अपील कर चुके हैं। तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों और सरकार के बीच के गतिरोध पर भी वे कई बार टिप्पणी कर चुके हैं। वरुण गांधी हमेशा किसानों के पक्ष में रहे है।

मुजफ्फरनगर में हुई किसान महापंचायत का एक वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने ट्विटर पर लिखा था कि आज मुजफ्फरनगर में विरोध प्रदर्शन के लिए लाखों किसान इकट्ठा हुए हैं। वे हमारे अपने ही हैं। हमें उनके साथ सम्मानजनक तरीके से फिर से बातचीत करनी चाहिए और उनकी पीड़ा समझनी चाहिए। हमें उनके विचार जानने चाहिए और किसी समझौते तक पहुंचने के लिए उनके साथ मिल कर काम करना चाहिए। उन्होंने विरोध-प्रदर्शन के कारण को जानने की कोशिश की है। वरुण के ट्वीट के पीछे ये माना जा रहा है कि पीलीभीत में भी सिख आबादी है। साथ ही बड़ी आबादी किसानों की है और वरुण अपने वोटरों को नाराज नहीं करना चाहेंगे। वरुण गांधी ने लखीमपुर कांड पर कई वीडियो जारी किया है जिससे बीजेपी की स्थिति असहज हो गयी है।

यह भी पढ़ेंः-लखीमपुर कांड : प्रदेश BJP अध्यक्ष ने केंद्रीय गृह राज्यमंत्री को किया तलब, हाईकमान में ऐसी है नाराजगी