Categories
उत्तर प्रदेश लखनऊ

सीएम योगी आज 3.73 लाख आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों, सहायिकाओं को देंगे तोहफा, ये होगी घोषणा

लखनऊ। विधानसभा चुनाव से पहले घोषणाओं और सौगातों का दौर जारी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को प्रदेश में कार्यरत 3.73 लाख आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों, सहायिकाओं के मानदेय में बढ़ोतरी की घोषणा करेंगे। लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में दिन में11 बजे आयोजित कार्यक्रम में कोरोना के दौरान 10 श्रेष्ठ अभियान चलाने वाले जिलों की तीन उत्कृष्ट आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को सम्मानित भी किया जाएगा।
आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व सहायिकाओं के मानदेय में 500 रुपए तक प्रतिमाह बढ़ोतरी का प्रस्ताव बाल विकास व पुष्टाहार विभाग ने भेजा गया था। बढ़ोतरी की घोषणा मुख्यमंत्री कार्यक्रम में करेंगे। गत दो वर्षों में कोरोना से लड़ाई में साथ देने के साथ आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों व सहायिकाओं को अलग से भत्ता भी देने की तैयारी है। ज्ञात हो कि इससे पहले आशा बहुओं के मानदेय में 750 रुपए, अनुदेशकों के मानदेय में 2000 रुपए और रसोइयों के मानदेय में 500 रुपए की बढ़ोतरी की जा चुकी है।

ज्ञात हो कि महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की एकीकृत बाल विकास सेवा योजना के तहत आंगनबाड़ी सेवाओं में स्थानीय समुदाय के आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों और सहायिकाओं को मानद कार्यकर्ता के रूप में परिकल्पित किया जाता है। ‘अंशकालिक’ आधार पर बाल देखभाल और विकास में अपनी सेवाएं देने के लिए आगे आती हैं। सेवाओं में बाल विकास की निगरानी, कुपोषित बच्चों और गर्भवती महिलाओं की देखभाल, राशन वितरण, आईसीडीएस के तहत अन्य स्वास्थ्य सेवाओं का प्रशासन शामिल है। इन श्रमिकों को नियोक्ता के रूप में नहीं माना जाता है, इसलिए उन्हें मानदेय मिलता है न कि मासिक वेतन।

2 करोड़ श्रमिकों को भरण पोषण भत्ता

योगी आदित्यनाथ राज्य के 2 करोड़ श्रमिकों को भरण-पोषण भत्ता देंगे। इस योजना के पहले चरण में एक-एक हजार रुपये श्रमिकों के खातों में ट्रांसफर करेंगे। योगी सरकार ने कोरोना महामारी की तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को भरण-पोषण भत्ता देने का एलान किया था। इस योजना के तहत कुल दो हजार रुपये दिए जाने हैं, जिसकी एक.एक हजार रुपये की दो किश्तें जारी होंगी। इस समय प्रदेश में कुल पंजीकृत कामगारों की संख्या पांच करोड़ 90 लाख आठ हजार 745 है। भरण पोषण भत्ता उन सभी मजदूरों को मिलना है। जिन्होंने 31 दिसंबर 2021 तक सामाजिक सुरक्षा बोर्ड में पंजीकरण करा लिया हो।

यह भी पढ़ेंःसपा ने कब्रिस्तान-योगी ने श्मशान बनवाये, मैं स्कूल बनवाऊंगा : केजरीवाल