yogi aditynath

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के प्राइमरी स्कूलों में शिक्षामित्रों को सीएम योगी आदित्यनाथ ने सौगात दी है। प्रदेश में तैनात करीब डेढ़ लाख शिक्षामित्रों के लिए बड़ी खुशखबरी है। प्रदेश की भाजपा सरकार जल्द ही शिक्षामित्रों के मानदेय को बढ़ाने वाली है। इस निर्णय से अनुदेशकों और रसोइयों का भी मासिक मानदेय बढ़ेगा। बताया जा रहा है कि शिक्षमित्रों का मानदेय 1000 रुपए प्रतिमाह बढ़ेगा। जबकि अनुदेशकों के मानदेय में 1000 से लेकर 500 रुपए तक की बढ़ोतरी होनी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस बढ़े हुए मानदेय की घोषणा करने वाले हैं।  ज्ञात हो कि प्रदेश के सरकारी प्राइमरी स्कूलों में करीब 1.59 लाख शिक्षामित्र तैनात हैं, जबकि अनुदेशकों की संख्या 30 हजार है।

सुप्रीम कोर्ट ने सहायक शिक्षक पद पर समायोजन रद्द होने के बाद अभी शिक्षामित्रों का मानदेय 10 हजार रुपये है। शिक्षकों का समायोजन रद्द होने के बाद उनका मानदेय 3500 से बढ़ाकर 10 हजार रुपये किया गया था। प्रदेश सरकार से शिक्षा मित्र समान कार्य समान वेतन की मांग कर रहे थे। अनुदेशकों को भी लगभग सात हजार रुपये मानदेय दिया जाता है। 3.5 लाख रसोइयों को अभी 1500 रुपये मानदेय दिया जाता है, जिसमें 1000 रुपये केंद्र और 500 रुपये सरकार देती है।

अक्टूबर से मिलेगा बढ़ा मानदेय

प्रदेश सरकार की तैयारी है कि वित्त विभाग से मानदेय बढ़ाने के प्रस्ताव को मंजूरी और बजट आवंटन किया जा चुका है। अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जल्द ही इस वृद्धि का ऐलान कर सकते हैं। विभाग में उच्चपदस्थ सूत्रों के मुताबिक शिक्षामित्रों, अनुदेशकों और रसोईयों को अक्टूबर माह से बढ़ा हुआ मानदेय देने की तैयारी है।

यह भी पढ़ेः-अब महिलाओं के लिए भी CM Yogi ने बढ़ाए मदद के हाथ, हर महीने देंगे 2 हजार रुपये