Monday, December 6, 2021

नये फोल्डर में पुराने काम के सहारे चुनाव में जाएगी BSP, मायावती ने सुरक्षितों पर बनायी ये रणनीति

Must read

- Advertisement -

लखनऊ। विधानसभा चुनाव को देखते हुए सपा, बसपा, भाजपा, कांग्रेस ने किलेबंदी शुरू कर दी है। बसपा प्रमुख मायावती अपने सियासी जनाधार को वापस लाने के लिए हरसंभव प्रयास कर रह हैं। मायावती ने अपनी सरकार के दौरान प्रदेश में कराए गए विकास कार्यों को बसपा ने जनता के बीच ले जाने का फैसला किया है। उन्हांेने दलित वोटों पर मजबूत पकड़ बनाए रखने की योजना तैयार की है। बसपा सुप्रीमो मायावती की नजर अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीटों पर है। कांशीराम की पुण्यतिथि पर मायावती ने मिशन-2022 का आगाज करते हुए पार्टी पदाधिकारियों से सभी विधानसभा सीटों पर बूथ कमेटियों को मजबूत करने का आह्वान किया था। मायावती ने मंगलवार को सभी 84 सुरक्षित सीटों के विधानसभा अध्यक्षों की बैठक बुलाई है। उन्होंने सुरक्षित 85 सीटों के विधानसभा अध्यक्षों को चुनावी मैदान में जुट जाने को कहा है। मायावती ने कहा कि वे सभी अपने क्षेत्र में उसी तरह से तैयारी करेंगे जिस तरह साल 2007 में की थी। उन्होंने कहा कि परिणाम 2007 की तरह ही आयेगा।

खुद समीक्षा करेंगी मायावती

- Advertisement -

मायावती ने सुरक्षित सीटों पर जीत का मंत्र दिया है। उन्होंने कहा कि वह इन सभी सीटों पर तैयारियों की खुद समीक्षा करेंगी। महासचिव सतीश मिश्रा को भी यह जिम्मेदारी दी गई है कि वह इन सभी सीटों पर ब्राह्मणों को जोड़ने के लिए समीक्षा करें और एक नया सियासी समीकरण सूबे में तैयार करें। उन्हेें मतदाताओं के बीच जाने और सम्पर्क बढ़ाने के लिए कहा गया है।

घर-घर पहुंचाए जाएंगे फोल्डर

मायावती सत्ता में वापसी के लिए 2007 से 2012 के दौरान यूपी में कराए गए विकास को सियासी हथियार बनाएंगी। मायावती ने बैठक में बताया कि अपनी योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए एक फोल्डर तैयार किया गया है जिसे कार्यकर्ता गांव-गांव तक पहुंचाएंगे। मायावती ने कहा कि उनके द्वारा कराए गए विकास कार्यों को सपा और बीजेपी अपना बताती रही है। ऐसे में लोगों तक यह जानकारी पहुंचाना बहुत जरूरी है जिसके लिए एक फोल्डर तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार के काम को विपक्षी अपना बता रहे हैं। इस फोल्डर में बसपा सरकार में कार्य गए कामों का लेखाजोखा है, जिन्हें घर-घर और गांव-गांव पहुंचाएंगे।

बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि बसपा कहने से ज्यादा काम में विश्वास करती है। इसीलिए बसपा बिना किसी घोषणा पत्र के चुनाव मैदान में जाती है। बसपा से इस बार भी कोई घोषणा पत्र जारी नहीं होगा। मायावती ने कहा कि ऐसे में हम जनता को बताएंगे कि हमने सूबे में क्या काम किया है और सत्ता में आने पर क्या करेंगे। मायावती ने कह कि हमारा फोल्डर ही हमारा एजेंडा होगा। बसपा 2007 के चुनाव की तरह 2022 में भी परिणाम दोहराएंगे।

यह भी पढ़ेंः-मायावती ने बताया निर्णय में देरी तो अखिलेश ने कहा कि ‘विजय यात्रा’ से डरी बीजेपी

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article