brajesh pathak

लखीमपुर। लखीमपुर कांड पूरी तरह से राजनीतिक दांवपेच में बदल चुका है। उत्तर प्रदेश के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने लखीमपुर खीरी में तिकुनिया हिंसा में मारे गए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के ड्राइवर हरिओम मिश्रा और बीजेपी के मंडल मंत्री शुभम मिश्रा के परिवार से मुलाकात की। ब्रजेश पाठक ने इस दौरान परिवारों को न्याय का भरोसा दिलाया। उन्होंने परिजनों से साथ ही सभी मांगें पूरी करने की बात कही। उन्होंने मारे गए जिले के अन्य 4 लोगों के परिजनों से मुलाकात नहीं की। इसमें दो किसान नछत्तर सिंह और लवप्रीत सिंह के अलावा बीजेपी कार्यकर्ता श्याम सुंदर निषाद और पत्रकार रमन कश्यप शामिल हैं। ज्ञात हो कि किसानो के रौंदे जाने के बाद मौत के शिकार हुए दो अन्य किसान गुरविंदर सिंह और दिलजीत सिंह बहराइच जिले के निवासी हैं। इस दौरान बृजेश पाठक ने कहा कि शुभम डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को रिसीव करने जा रहे थे। बीजेपी उन्हें अपनी पार्टी में शहीद का दर्जा देगी। उन्होंने कहा कि कार्रवाई हो रही है। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। जल्द गिरफ्तारियां होंगी। बीजेपी सदैव शुभम के परिवार के साथ खड़ी है।

lakhimpur

कार से रौंद कर मारे गये अन्य लोगों के परिवार से मुलाकात के सवाल पर बृजेश पाठक ने कहा कि हालात सामान्य होने पर वह मिलने जरूर जाएंगे। बाकी लोगों के परिजनों से मुलाकात नहीं करने पर बृजेश पाठक का कहना था कि बीजेपी कार्यकर्ता श्याम सुंदर निषाद और पत्रकार रमन कश्यप के परिजनों से भी मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि चूंकि वह घटनास्थल के करीब रहते हैं, इसलिए वह इलाके में स्थितियां सामान्य होने पर वहां का दौरा करेंगे। वहीं किसान परिवारों से मुलाकात को लेकर भी उन्होंने कहा कि एक बार स्थितियां सामान्य हो जाएं तो वह उन परिवारों से भी बात करेंगे।

lakhimpur

ज्ञात हो कि 3 अक्टूबर को लखीमपुर में केशव मौर्य का कार्यक्रम आयोजित था। कार्यक्रम से पहले किसानों ने विरोध-प्रदर्शन किया। विरोध-प्रदर्शन से लौट रहे किसानों को कार से रौंद दिया गया। जिसमें चार की मौत हो गयी। कार से रौंदे जाने के बाद भड़की हिंसा में एक पत्रकार से सहित चार लोगो की मौत हो गयी। इस घटना का मुख्य आरोपी केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी का बेटा आशीष है।

lakhimpur

यह भी पढ़ेंः-अंकित दास ने किया खुलासा, मैंने और काले ने किसानों पर ऐसे की थी फायरिंग