Categories
उत्तर प्रदेश लखनऊ

आयोग के समक्ष सभी दल चाहते हैं समय पर हो चुनाव लेकिन इस अधिकारी को चुनाव व्यवस्था से हटायें

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की रणभेरी बज चुकी है। चुनाव को लेकर लखनऊ में चुनाव आयोग की राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ महत्वपूर्ण बैठक हुई। भारत निर्वाचन आयोग की 13 सदस्यीय टीम ने बैठक कर सभी राजनीतिक दलों से चुनाव कराए जाने को लेकर सुझाव मांगा। इस दौरान सभी राजनीतिक दलों ने समय पर चुनाव कराए जाने की बात कही है। राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों की ओर से कहा गया कि उत्तर प्रदेश में कोविड नियमों का पालन कराते हुए समय से चुनाव होना चाहिए। कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी चुनाव व्यवस्था से हटाने की मांग की है। कोरोना की तीसरी लहर और ओमिकॉन के खतरा बढ़ गया है। चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों पर एक दिन पहले ही स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से बात की थी। इसके बाद राजनीतिक दलों के साथ बैठक हुई। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्रा की अगुवाई में पहुंची टीम में राजीव कुमार, अनूप चंद्र पांडे, चंद्रभूषण, नितेश व्यास, टी श्रीकांत समेत आला अधिकारी लखनऊ पहुंचे। योजना भवन में हुई बैठक में भाजपा, सपा, बसपा और कांग्रेस समेत अन्य क्षेत्रीय दलों के प्रतिनिधियों ने अपना पक्ष रखा। सभी राजनीतिक दलों ने चुनाव समय पर कराने पर ही जोर दिया।

BSP बोली समय पर हो चुनाव

बहुजन समाज पार्टी ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त को ज्ञापन दिया है, जिसमें कहा कि चुनाव समय पर ही प्रदेश में होने चाहिए। कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर भी कहा है कि जिस तरह से रैलियों और रोड शो के जरिए भीड़ जुटाई जा रही है कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, उससे पूरा देश स्तब्ध है। भीड़ जुटाया जाना ठीक नहीं है।

कोविड नियमों के पालन के साथ हों चुनाव: सपा

सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने कहा कि चुनाव समय पर हों और कोरोना गाइडलाइन का इसमें पूरी तरह से पालन हो। 80 वर्ष के ऊपर के मतदाता व दिव्यांग मतदाताओं की सूची सभी दलों को दी जाये। क्रिटिकल बूथों की लिस्ट भी राजनीतिक दलों को दी जाये। मतदान के बाद सही परिणाम नहीं निकलने पर दोबारा मतदान होना चाहिएं

सपा ने अधिकारियों पर उठाए सवाल

सपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि जिन अधिकारियों ने प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और मुख्यमंत्री की जनसभाओं में जनता को जुटाने में दबाव डाला है। उन अधिकारियों के लिस्ट चुनाव आयोग को दी गई है। इस पर आयोग को संज्ञान लिया जाना चाहिए।

पुलिस के भरोसे नहीं हो सकता यूपी का चुनाव

कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग के सामने यूपी पुलिस पर सवाल उठाये। कांग्रेस ने कहा कि यूपी पुलिस के भरोसे यूपी में विधानसभा के चुनाव नहीं हो सकते है। यूपी पुलिस पर भरोसा नहीं है। चुनाव केंद्रीय पुलिस बल की निगरानी में होने चाहिए।

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी को हटाने की मांग

कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी को उनके पद से हटाये जाने की मांग भी चुनाव आयोग से की है। कांग्रेस ने कहा कि अवनीश अवस्थी को चुनावी व्यवस्था से एकदम अलग रखा जाए। वह केंद्रीय मंत्रियों के ट्वीट को री-ट्वीट करके सरकारी पद का दुरपयोग कर रहे हैं। काशी विश्वनाथ मंदिर के लोकार्पण कार्यक्रम में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम पर जो ट्वीट अवनीश अवस्थी ने किये और साथ ही अन्य सरकारी योजनाओं पर री-ट्वीट कर सरकार का लगातार महिमामंडन करते रहे हैं। वह राजनीतिक दल के लिए काम कर रहे हैं।

बीजेपी ने बूथों पर महिला पुलिस की तैनाती की रखी बात

चुनाव आयोग से मुलाकात के बाद बीजेपी उपाध्यक्ष और एमएलसी अरविंद शर्मा ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए महिला पुलिस की बूथों पर नियुक्ति पर्याप्त रहे। साथ ही महिला वोटरों का वेरिफिकेशन कराने व कोरोना के मामले के चलते भीड़ भाड़ वाले इलाकों में पोलिंग बूथ की समीक्षा हो।

चुनाव कराएं, रैलियां रोकें

सीपीआईएम की ओर से कहा गया कि चुनाव को समय पर कराया जाये। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए जनसभाओं मर रोक लगाई जाए.।सीपीआईएम ने कहा कि सत्ताधारी पार्टी लाखों लोगों में रैलियां कर रही है और विरोधी को एक साथ बैठने की इजाजत तक नहीं दी जा रही।

यह भी पढ़ेंः-ओमिक्रॉन के बीच चुनावी रैलियों पर तल्ख हुए बीजेपी सांसद, रात में कर्फ्यू और दिन में लाखों की भीड़