up police

लखनऊ/ कानपुर। अपराधियों को पकड़ने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस ने ऐसा जाल बिछाया है जिसकी अब चर्चा हो रही है। कानपुर में अपराधी को पकड़ने के लिए एक दिलचस्प मामला सामने आया। कई महीनों से फरार चल रहे एक अपराधी को पकड़ने के लिए पुलिस ने उसकी शादी कराने का जाल बिछाया। पुलिस के लोग सादी वर्दी में लड़की वाले बनकर पहुंचे और लड़की देखने के बहाने अपराधी को बुलाया गया। अपराधी जब लड़की देखने आया तो पुलिस ने उसे दबोच लिया। सचेंडी क्षेत्र के उदयपुर गांव का मामला है। काकादेव थाने से एक हेड कॉन्स्टेबल और एक सिपाही अपराधी धर्मेंद्र चंदेल उर्फ बीनू ठाकुर के घर योजना अनुसार पहुंचे। पुलिस वालों ने लड़की का भाई बनकर 10 लाख रुपये दहेज के साथ शादी का प्रस्ताव रखा।

पहले देखा लड़की का फोटो
दोनों पुलिसवाले ने अपराधी के परिवार से मिलने से पहले सतर्कता बरतते रहे। एक बुजुर्ग व्यक्ति को भी साथ ले गए, जिसे उन्होंने लड़की के पिता के रूप में पेश किया। उनके साथ एक लड़की की फोटो भी थी जो अपराधी को दिखाना था। अपराधी का परिवार तुरंत प्रस्ताव पर सहमत हो गया और फिर पुलिस ने भावी दूल्हे से मिलने पर जोर दिया।

ऐसे पकड़ा गया अपराधी
बीनू ठाकुर जो एक कुख्यात ऑटो चोर है। वह कानपुर में अपराध के बाद दिल्ली चला जाया करता था। वह सोमवार शाम को लड़की देखने के लिए दिल्ली से अपने घर आया। घर आते ही वह पुलिस के जाल में फंस गया। पुलिस ने बताया कि जब पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली कि आरोपी के परिवार वाले शादी के लिए लड़की की तलाश रहे हैं। काकादेव थाने के इंस्पेक्टर कुंज बिहारी मिश्रा ने कॉन्स्टेबल धर्मेंद्र तिवारी और अमित को लड़की का भाई और एक बुजुर्ग व्यक्ति को पिता बनाकर उसके घर भेजा। उसके बाद जाल बिछाकर उसे पकड़कर जेल भेज दिया गया।

डीसीपी पश्चिम संजीव त्यागी ने पिछले एक साल से फरार अपराधी को गिरफ्तार करने के लिए ड्रामा करने वाले दोनों पुलिसकर्मियों के लिए नकद इनाम की घोषणा की है। पुलिस ने बीनू ठाकुर के दो अन्य साथियों को कल्याणपुर इलाके से गिरफ्तार किया है। अपराधियों के पास चोरी के कई दोपहिया वाहन बरामद हुई है।

यह भी पढ़ेंः-Kanpur: शक के घेरे में विनय तिवारी पर बड़ा आरोप, अधिकारियों से साठ-गांठ कर हासिल किया था SO का पद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here