basti rajbhr

भासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर आज बस्ती पहुंचे, लाल टोपी की राजनीति में अब ओम प्रकाश राजभर ने भी एंट्री मारी है. उन्होंने टोपी का इतिहास बताते हुए बीजेपी पर जमकर निशाना साधा. भासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने भी लाल टोपी की राजनीति में एंट्री मार दी है. उन्होंने कहा की सन 1925 में आरएसएस ने टोपी का प्रचलन शुरू किया. जिस आरएसएस के बल पर वो कुर्सी पर बैठे हैं, और जिस टोपी का जिक्र करते हैं. इतिहास पढ़ लें 1925 में सबसे पहले आरएसएस ने टोपी की शुरूआत की थी. उस दिन मुझे आश्चर्य हुआ सदन के अंदर योगी जी ने कहा की मनु के वंशज हैं भगवान राम, आप मनुस्मृति लाना चाहते हो. छुआ-छूत, ऊंच-मीच नफरत लाना चाहते हो कभी हनुमान जी को दलित बताते हो. हिम्मत हो सुहेल देव जी को बता दो राजभर हैं. इतिहास पढ़ो उस में सुहेल देव जी को भर शासक दिखाया गया है, उत्तर प्रदेश में 18 प्रतिशत वोट भर बिरादरी का है. 18 प्रतिशत वोट लेने के लिए यो लोग छटपटा रहे हैं. मैं साथ था तो वोट मिल गया अब साथ नहीं है तो छटपटा रहे हैं. इसे भी पढ़ें:-ऐलान : अगले साल सपा सरकार बनने पर हर महिला के खाते में आएंगे एक-एक हजार रुपये

वहीं यूपी सरकार के मंत्री अनिल राजभर पर भी उन्होंने हमला बोला, ओम प्रकाश राजभर ने कहा की ये मदाड़ी हैं कभी सपा का बाजा बजाते हैं. अमर सिंह के साथ जा कर बाजा बजाए. आज यहां बाजा बजा रहे हैं. ये बजनिया लोग हैं. इन को हम लोडर कहते हैं. मालिक और लोडर दो चीज होता है. ये लोडर लोग हैं. जहां बाजा मिल जाता है वहीं बजाते हैं.जब मालिक को कुछ प्राफिट नहीं होता है. तो ऐसे बजनिया को निकाल बाहर कर देते हैं.

प्रदेश की कानून व्यवस्था पर भी उन्होंने हमला बोला उन्होंने कहा की जो हमारी सुरक्षा में तैनात पुलिस कर्मी खुद मारे जा रहे हैं. सरकार कहती है भ्रष्टाचार नहीं आजादी के 74 साल में पहली बार देखा की शमसान घाट से लाश गांव गई है. गांव से लाश शमसानघाट जाती है, लेकिन इस सरकार में गाजियाबाद में भ्रष्टाचार की भेट चढ़ा शमसान घाट में बनने वाला छत जिसके नीचे दबकर 25 लोग मर गए और 25 लोगों की लाश शमसानघाट से गांव गई.इसे भी पढ़ें:-Basti: भ्रष्टाचारी प्रधान से भगवान ही बचाए ऐसे में लाभार्थी बेचारे कहा जाए

रिपोर्ट-रजनीश कुमार पाण्डेय बस्ती

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here