बस्ती:मोस्ट वांटेड हामिद असरफ चढ़ा पुलिस के हत्थे

basti पुलिस

बस्ती रेलवे ई टिकट हैकर का मोस्टवांटेड 50 हजार का ईनामी हामिद अशरफ आखिर कार पुलिस के हत्थे चढ़ गया. बस्ती पुलिस और रेल्वे पुलिस ने बैंगलोर एअरपोर्ट से अरेस्ट किया है.इस के पास से 1.55 लाख नगद, 8292 विदेश मुद्रा द्रहम, दुबई का पास्पोर्ट व सेजिडेंस बीजा पुलिस ने बरामद किया है.इसने अब तक रेलवे ई टिकट से लगभग 50 करोड़ रूपए कमाए है.आप को बता दें इस की तलाश कई प्रदेशों की पुलिस के साथ सीबीआई को भी थी. 2016 में पहली बार यह सीबीआई के हत्थे चढ़ा था, जमानत के बाद फिर से रेलवे के ई टिकट का काम शुरू करने लगा. जिसके बाद से इस की तलाश पुलिस और रेल्वे के साथ सीबीआई को भी थी. इस ने रेल्वे रिजर्वेशन ई टिकट के लिए बाकायदा रेडमिर्ची और एएनएमएस साफ्टवेयर तैयार किया.जिसके जरिए रेलवे की साइट हैक कर टिकट को बुक कर लेते थे और उसे ब्लैक में बैचते थे. इसे भी पढ़ें:-बस्ती: फर्जीवाड़े के दम पर बने करोड़पति गिरफ्तार

मास्टर माइंड हामिद ने इस साफ्टवेयर के जरिए पूरे देश में 1500 एजेन्ट बनाए. जिन को लागइन पास्वर्ड देकर ई टिकट बुक कराता था. एवज में साफ्टवेयर का महीने का किराया और जो टिकट ब्लैक होते थे उस का कमीशन लेता था. इस के जरिए हामिद ने करोड़ो रूपए कमाए और करोड़ो की प्रापर्टी खड़ी कर ली, बस्ती पुलिस और आरपीएफ की टीम ने जब संयुक्त रूप से अवैध ई टिकट के खिलाफ अभियान शुरू किया तो इस के कई साथी अरेस्ट किए गए.जिसके बाद पता चला की हामिद इस गैंग का मास्टरमाइंड है, जब हामिद पर पुलिस ने शिकंजा कसना शुरू किया तो हामिद कहीं छिप गया और बाद में दुबई चला गया. दुबई से भारत आते समय बैंगलोर एअरपोर्ट से अरेस्ट किया गया.

हामिद अशरफ का टेरर फंडिंग में भी नाम आ रहा था. जिस पर एसपी हेमराज मीणा ने कहा की इस ने हवाला का काम किया. इस के साक्ष्य मिले हैं, ये नेपाल और दुबई हवाला के माध्यम से भेजा करता था. पिछले दो साल से दुबई में यह हवाला के पैसे से सर्वाइव कर रहा था, इन का नेटवर्क काफी बड़ा था. कई राज्यों में नेटवर्क था जो भी कार्रवाई हुई है. अलग-अलग फेज में हुई है, अब मुख्य अभियुक्त अरेस्ट हुआ है. पूर्व की सभी कड़ियां अब मिलेंगी. अब साक्ष्य निकल कर आएगा की इन का इस तरह का कनेक्शन है या नहीं लेकिन अभी तक ऐसा कोई लिंक नहीं मिला है की टेरर ग्रुप से इन का लिंक रहा हो.अब आगे जांच में जो साक्ष्य मिलेंगी उस के हिसाब से कार्रवाई की जाएगी। इसे भी पढ़ें:-दिशा को जमानत : कोर्ट ने कहा वॉट्सऐप ग्रुप बनाना, टूलकिट एडिट करना अपराध नहीं

बस्ती से रजनीश कुमार पाण्डेय की रिपोर्ट 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *