बस्ती : 63 वर्ष बाद खाली हुआ सरकारी भवन

basti dm

उत्तर प्रदेश: बस्ती जिले में एक ऐसा भी भवन बना जिसपर रसूखदारों ने लगभग 6 दशकों से अपना कब्जा कर मोटी रकम वसूली का काम किया करता था.अभी तक जिले में बहुत से आई ए एस आये और चले गए लेकिंग किसी ने इन रसूखदारों के खिलाफ कार्यवाही की हिम्मत न जुटा सके.आखिर जुटा भी कैसे लेते रसूखदारों की पहुँच सरकारी अफसरों सहित सफेदपोशों में बहुत अच्छी थी जिसके चलते कोई आई ए एस इनके खिलाफ कार्यवाही करने से डरता था,रसूखदारों ने एक सोसायटी बना कर कर रखा था. करोड़ो की जमीन पर अपना कब्जा,लेकिन जिले में आये आई ए एस अशुतोष निरंजन ने वो कर दिखाया जो करने का दमखम 1960 से किसी आई ए एस नही दिखा लेकिन वर्तमान जिलाधिकारी ने नामुमकिन को मुमकिन कर दिखाया.ये भी पढ़ें:- शपथ ग्रहण से पहले व्हाइट हाउस छोड़ देंगे डोनाल्ड ट्रंप, यह है मामला

आप को बता दे कि बस्ती का टाउन क्लब सन 1960 से कुछ रसूखदारों भूमाफियाओं ने अपना आधिपत्य पूरी तरह से जमा लिया था,और उस टाउन क्लब को एक शंकर मेमोरियल सोसायटी बना कर अपना कर रखा था लेकिन इसका खुलासा होते ही जिलाधिकारी अशुतोष निरंजन ने पेपरों को खंगालना शुरु किया और पेपरों में पाया कि जिस जमनी पर टाऊन क्लब बना है वह नगर पालिका की जमीन है,जिलाधिकारी ने पूरी बिल्डिंग को पहले तो रसूखदार भूमाफियों के चंगुल से आजाद कराया बल्कि जिले के अगौना में जन्म लिए हिंदी जगत के साहित्यकार की आचार्य राम चन्द्र शुक्ल की प्रतिमा लगवाने के साथ बस्ती जिले की जनता और युवाओं के भविष्य को देखते हुए उस परिसर में पढने वाले छात्रों के लिए लाइब्रेरी खेल के क्षेत्र में आगे निकलने वाली प्रतिभाओं के लिए बैडमिंटन कोर्ट के साथ बास्केटबॉल कोर्ट का निर्माण का निर्णय लिया,साथ ही जिले के टाउन क्लब का नाम बदलकर आचार्य रामचंद्र शुक्ल मेमोरियल टाउन क्लब के नाम दिया गया,अब टाउन क्लब रसूखदारों भूमाफियों के चँगुल से निकलकर नगर पालिका को हैंड ओवर कर दिया गया है,नगर पालिका के द्वारा टेंडर करा कर अब जिले में निर्माण कार्य कराया जा रहा है,

इस मामले में नगर पालिका अध्यक्ष रूपम मिश्रा ने बताया कि अब यहाँ पर जनता के अनरूप जिससे वो वंचित थे उसकी व्यवस्था की गई है पढ़ने वाले बच्चो सहित बुजुर्गों के लिए धार्मिक पुस्तकों की व्यवस्था की जाएगी.साथ ही स्पोर्ट के बच्चो के लिए बैडमिंटन हाल और बास्केटबॉल कोर्ट भी बनवाया जा रहा है.भूमाफियाओं के चंगुल में कब्जे में रहे टाउन हॉल के मामले में जिलाधिकारी अशुतोष निरंजन ने कहा कि इसपे कुछ कहना उचित नही है,जब मेरा कार्यकाल आया तब मामला संज्ञान में आते ही नगर पालिका में मेरी बात हुई जिसमें जिला प्रशासन और नगर पालिका का कोआर्डिनेश हुआ और हम इसको रसूखों के चंगुल से आजाद कराया गया है आगे भी ऐसी कार्यवाही अगर हो तो कभी भी रसूखदार भूमाफिया इस तरह का कब्जा करने की हिम्मत नही जुटा सकेंगे।
ये भी पढ़ें:- शुरु हुई गणतंत्र दिवस परेड की प्रैक्टिस,जाम से बचने के लिए दिल्ली के इन मार्गों से रहे दूर

बस्ती से रजनीश कुमार पाण्डेय की रिपोर्ट