basti dm

बस्ती जिले में एक प्रधान का कारनामा सामने आया है जहाँ प्रधान ने लाभार्थी को गुमहार कर पशुचरन के नामपर मिलने वाले सरकारी योजना के बारे में बताये और उनसे सारे कोरम पूरे करवा लिए गए,और जब भुगतान की बात आई तो प्रधान और ब्लाक कर्मियों की संलिप्तता से भुगतान भी करा लिया गया लेकिन लाभार्थी को इसकी भनक तक नही लगी.मामला बस्ती जिले के बहादुरपुर ब्लाक अंतर्गत आने वाले बेनीपुर ग्राम पंचायत का मामला है जहाँ शिकायतकर्ता राधेश्याम ने शपथ पत्र के साथ मुख्य विकास अधिकारी को शिकायती पत्र देकर अवगत कराया गया, कि ग्राम पंचायत बेनीपुर में पशुचरन,खड़ंजा और इन्टरलाकिग के नाम पर काम हुआ ही नही और उसका भुगतान करा लिया गया है. यह भी पढ़ें:-बस्ती: बढ़ती महंगाई की मार पर बोले डॉ आयूब

इतना ही नही इस मामले में कुछ ऐसे भी जॉब कार्ड का प्रयोग किया गया है जिसकी मृतक है,जब बेनीपुर ग्राम पंचायत में पड़ताल की गई तो मामला सच पाया गया.इतना ही नही जिस इन्टरलाकिग के नाम पर भुगतान अक्टूबर में ही पूरा करा लिया गया. वह भी अभी अधूरा है ,और कागजो में काम पूरा दिखाकर पूरा भुगतान करा लिया गया है.वहीँ जब इन्टरलाकिग में प्रयोग हो रही ईंट को देखा गया. तो पाया गया जिस ईट को लगाकर काम कराया जा रहा वह भी मानक पर नही है.

बहादुरपुर ब्लाक के बेनीपुर ग्राम पंचायत की बात जब जिलाधिकारी अशुतोष निरंजन पूछा गया तो डीएम ने कहा कि आप के माध्यम से बहादुरपुर ब्लाक में शिकायतकर्ता द्वारा शपथ पत्र लगाकर शिकायक्त की गई है, मनरेगा हमारी रोजगार परख योजना है इसमे इस तरह के कृत्य को बर्दाश्त नही किया जाएगा,शिकायक्त अगर प्रमाणित पाई जाती है,तो मनरेगा की जो प्रोसीजर है और जो आईपीसी की धारा है उसके तहत मुकदमा पंजीकृत कराया जाएगा,और इसमे रिकवरी भी कराई जाएगी.यह भी पढ़ें:-क्राइम ब्रांच ने Hrithik Roshan से पूछताछ की पूरी, कंगना ने कहा ‘सिली एक्स’

रिपोर्ट-रजनीश कुमार पाण्डेय बस्ती 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here