बस्ती: नाबालिग के हाथों में कॉपी, किताब की जगह थमा दिया फावड़ा

0
52

बस्ती: इन दिनों मनरेगा का कार्य लगभग हर ब्लॉकों में कराया जा रहा है, ताकि लॉकडाउन के चलते काम की कमी को दूर किया जा सके और श्रमिकों को रोजगार मुहैया कराया जा सके, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो सरकार के निर्देशों को धता बताते हुए नाबालिगों के हाथ में फावड़ा थमा दे रहे हैं। दरअसल, जनपद के बहादुरपुर ब्लाक के ग्राम पंचायतों में नाले एवं तालाबो की खुदाई का काम जॉब कार्ड धारकों से कराया ही जा रहा है, लेकिन साथ ही साथ नाबालिग बच्चों से भी मनरेगा के तहत काम लेने में ग्राम प्रधान कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे, जिन बच्चों के हाथों में कॉपी और किताब होना चाहिए ऐसे में उनके हाथों में फावड़ा थमा दिया गया है।

ये भी पढ़े :कोरोना से हुई डॉक्टर की मौत, नामी क्लीनिक के फिजिशियन में होती थी गिनती

मंगलवार को बहादुरपुर ब्लॉक के कुरहा पट्टी दरियाव गांव में गांव के पास तालाब सौन्दरीकरण का कार्य मनरेगा के तहत करवाया जा रहा था। वहां खुदाई में लगभग सैकड़ों की संख्या में मजदूर कार्य कर रहे थे। इस दौरान किसी भी मजदूर के चेहरे न ही मास्क लगा था और न ही सोशल डिस्टेंसिग का पालन किया जा रहा। इतना ही नहीं, वहां पर हैंडवाश के लिए सेनेटाइजर या साबुन कुछ भी नही मिला। वहां सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात तो यह देखने को मिली की नाबालिग बच्चे भी वहां काम करते हुए मिले। एक तरफ जहां केंद्र और राज्य सरकार शिक्षा और स्वास्थ्य संबंधी मामलों को लेकर बेहद ही संवेदनशील है तो वहीं दूसरी तरफ गांव के जिम्मेदार ही देश के कर्ण धार कहे जाने वाले बच्चों के भविष्य के साथ मख़ौल मज़ाक उड़ा रहे।

जब इस पूरे प्रकरण पर प्रधान प्रतानिधि के रूप में मनरेगा के तहत कार्य करवा रहे लोगो से जब यह सवाल पूछा गया तो वो कैमरे के सामने बोलने से बचने लगे। इतना ही जिला प्रशासन का साफ तौर पर निर्देश है कि मनरेगा के तहत कार्य कराए जाने पर बाकायदा मजदूरों के बीच सोशल डिस्टेंसिग का ध्यान रखा जाए और सभी के चेहरे पर मास्क अवश्य लगा हो। साथ ही सेनेटाइजर या साबुन की व्यवस्था जरूर हो ताकि कुछ खाने पीने से पहले मजदूर साफ सफाई रखें। इस बाबत खंड विकास अधिकारी बहादुरपुर विमला चौधरी ने कहा कि नाबालिग से कार्य कराना अपराध है। इस मामले की जांच करा कर जिम्मेदारों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़े :बस्ती: शिक्षक अभिभावक संघ ने बच्चों से घर में रहने का किया अपील

बस्ती से रजनीश कुमार पाण्डेय की रिपोर्ट