बस्ती: CAA कानून का विरोध करने पर कांग्रेस नेता ने कहा, ‘विरोध लोकतंत्र की आत्मा है’

0
87
Loading...

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता एवं पूर्व प्रदेश सचिव देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि केन्द्र व प्रदेश सरकार द्वारा कथित रूप से लागू दोहरी कानून व्यवस्था बेहद शर्मनाक है। विरोध लोकतंत्र की आत्मा है और मौजूदा सरकार जिस तरह की दमनात्मक कार्यवाही कर रही है। ऐसे माहौल में स्वस्थ लोकतंत्र की कल्पना नही की जा सकती। ये भी पढ़े :सीएए कानून को लेकर केशव प्रसाद मौर्या का बड़ा बयान, कहा-हिंसा में था हाथ, अब लगेगा इनपर प्रतिबंध

कांग्रेसी नेता ने कहा कि पूरे देश में नागरिकता कानून और एनआरसी का विरोध हो रहा है। केन्द्र सरकार की हठवादिता से आजिज कई राज्यों ने इसे लागू करने से मना कर दिया है। एनडीए के घटक दलों में शामिल नीतीश कुमार ने भी अपनी मंशा साफ कर दी है, बावजूद इसके भाजपा नेताओं ने सबक नही लिया। असम में 19 लाख लोगों के नागरिकता से वंचित होने और देशव्यापी विरोध को दरकिनार कर भारतीय जनता पार्टी अपनी जिद पर कायम है, जबकि महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, दोहरी कानून व्यवस्था, आपराधिक घटनाएं पिछले कई सालों का रिकार्ड तोड़ रही हैं। उत्तर प्रदेश सरकार खुद एफआईआर दर्ज कर रही है। खुद विवेचना कर रही है और खुद ही ट्रायल भी कर रही है।

नागरिकता कानून के विरोध में हुए प्रदर्शनों के दौरान हिंसा मामलों में बेकसूर लोगों को टारगेट किया जा रहा है। एफआईआर दर्ज करने के बाद सरकार खुद ही फैसले ले रही है तो कोर्ट की क्या जरूरत। कांग्रेस नेता एवं संविधान बचाओ शांति मार्च के संयोजक देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि सीएए और एनआरसी के विरोध तथा उपरोक्त सवालों को लेकर 21 जनवरी को प्रस्तावित संविधान बचाओ शांति मार्च का खाका खींचते हुए कहा कि प्रदर्शन पूरी तरह शांतिपूर्ण होगा। इसमें हजारों कांग्रेसी और समान विचारधारा के लोग शामिल होंगे। मौजूदा सरकार की नाकामियां गिनाते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि भाजपा की रैलियों में पार्टी कार्यकर्ता और स्कूली बच्चे दिख रहे हैं। जनता उनसे नही जुड़ रही है।

CAA कानून का विरोध करने पर कांग्रेसी नेता कहा, 'विरोध करना लोकतंत्र की आत्मा'

CAA कानून का विरोध करने पर कांग्रेसी नेता कहा, 'विरोध करना लोकतंत्र की आत्मा'

Posted by UP Varta on Tuesday, January 14, 2020

जनता महगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, महिलाओं संग हो रहे दुराचार और ताबड़तोड़ हो रहे जघन्य अपराधों से आजिज आ चुकी है। इन मुद्दों से देश का ध्यान भटकाने के लिए सीएए और एनआरसी का मुद्दा गरम कर दिया गया है। जनता परिवर्तन चाहती है और कांग्रेस इसका माध्यम बनेगी। उन्होने यह भी कि समूचा विपक्ष गायब है, केवल कांग्रेस ही जनता की आवाज उठा रही है और सभी मुद्दों पर सदन से लेकर सड़क तक संघर्ष कर रही है। पत्रकारों के यह पूछने पर कि जनता कांग्रेस का साथ क्यों दे। उन्होने कहा कांग्रेस ने कभी अपनी योजनाओं में हिन्दू-मुसलमान नही ढूढ़ा। सबके लिए समान रूप से काम किया। जाति और धर्म के आधार पर जनता को बांटने की नीतियों पर कांग्रेस कभी नही चली। इसलिए जनता कांग्रेस का साथ देगी और परिवर्तन होगा। इसकी शुरूआत 2022 में उत्तर प्रदेश से होगी। एक अन्य सवाल के जवाब में कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेस सत्ता में आई तो सीएए कानून रद किया जाएगा और एनआरसी लागू नही होगी। इसकी शुरूआत 2022 में उत्तर प्रदेश से होगी। ये भी पढ़े :सलाम है बस्ती के SP को, जिन्होंने गरीबों को जानलेवा ठंड से बचाने के लिए उठाया बड़ा कदम

बस्ती से रजनीश कुमार पाण्डेय की रिपोर्ट 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here