मंत्री स्वाती सिंह के घरेलू हिंसा का कथित ऑडियो वायरल, पति पर है ये आरोप

0
118
Swati singh bij

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के योगी सरकार में महिला और बाल विकास मंत्री स्वाति सिंह का एक ऑडियो वायरल हो रहा है। जिसमें उन्हें घरेलू हिंसा की शिकार होने का दावा किया है। स्वाती सिंह को उनके पति दयाशंकर सिंह पीटते हैं, ऐसा बताया जा रहा है। वायरल ऑडियो में स्वाती सिंह एक ऐसे शख्स से बातचीत कर रही हैं, जो उनके पति दयाशंकर सिंह की शिकायत कर रहा है। इस दौरान वह कहती हैं कि उनके बीच बातचीत का दयाशंकर सिंह को पता नहीं लगना चाहिए, नहीं तो उन्हें पीटा जाएगा। इस ऑडियो की अभी तक पुष्टि नहीं हो सकी है।

swati singh

स्वाती सिंह इस ऑडियो में कहती हैं कि मेरे स्थिति थोड़ी अलग है। उन्हें पता चलेगा तो वह आदमी मुझे भी मारना-पीटना बहुत करते हैं। लेकिन मैं कभी यह नहीं चाहूंगी कि किसी निर्दोष व्यक्ति के साथ कभी ऐसा हो। सारी दुनिया जाती है कि हम दोनों पति-पत्नी के रिश्ते कैसे हैं। मैं खुद इन चीजों (मारपीट) का विरोध करती हूं। वह यह भी कहती हैं कि दयाशंकर सिंह और उनके भाई मारने पीटने की साारी सीमा पार कर देते हैं।

स्वाती सिंह फोन पर आगे कहती हैं कि आप मुझे वह पेपर वगैरह सब दे दीजिए। दयशंकर जी को पता ना चले कि मेरे से आपकी बात हुई है। क्योंकि ये दयाशंकर जी धर्मेंद्र जी सब… क्या बोलूं। मैं तो भगवान से कहती हूं कि मेरे साथ बहुत गलत हो गया, ऐसे व्यक्ति से मेरी शादी हुई है, जिसकी भरपाई तो मैं कर ही नहीं सकती हूं। यह दयाशंकर सिंह और उनके भाई को ना पता लगे।

टिकट के लिए दोनों में है तकरार

ज्ञात हो कि स्वाती सिंह और उनके पति दयाशंकर सिंह के बीच लखनऊ की सरोजिनी नगर विधानसभा सीट के लिए भी दावेदारी है। सरोजनीनगर से योगी सरकार की मंत्री स्वाती सिंह टिकट की दावेदार हैं तो उनके पति और भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह भी दावेदारी पेश कर रहे हैं। इस समय पत्नी स्वाती सिंह इस सीट से विधायक हैं और योगी सरकार में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार हैं।

पति-पत्नी के संबंधों पर भी होती हैं बातें

लव मैरिज करने वाले दयाशंकर और स्वाती के बीच रिश्ते तल्ख हैं। साल 2008 में स्वाती ने पति दयाशंकर के खिलाफ मारपीट की एफआईआर भी दर्ज कराई थी। दोनों ने कभी इस झगड़े को सार्वजनिक मंच पर सामने नहीं आने दिया। इससे पहले स्वाती सिंह पर भाभी के साथ मारपीट करने, बिना तलाक लिए भाई की दूसरी शादी कराने और भाभी को घर से निकालने का आरोप लगा था। स्वाती के खिलाफ मुकदमा उनके अपने सगे भाई की पत्नी आशा सिंह ने दर्ज कराया था। ये मामला करीब 11 साल पुराना है।

ऐसे स्वाती बनीं मंत्री

2017 विधानसभा चुनाव से पहले दयाशंकर सिंह ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी थी। टिप्पणी के बाद बसपा कार्यकर्ताओं ने नसीमुद्दीन सिद्दीकी की नेतृत्व में लखनऊ में बड़ा विरोध-प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन के दौरान बसपा कार्यकर्ताओं ने दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाती सिंह और बेटी पर आपत्तिजनक नारे लगाए थे। स्वयं और बेटी पर टिप्पणी किये जाने के खिलाफ स्वाती मैदान में आईं और महिला सम्मान के नाम पर मायावती सहित बसपा के 4 बड़े नेताओं के खिलाफ हजरतगंज थाने में केस दर्ज कराया। मायावती के खिलाफ जिस तरह से स्वाती मुखर हुईं, उससे भाजपा को एक संजीवनी मिलती दिखी। यहीं से स्वाती का भाजपा के साथ सफर शुरू हो गया। इसके बाद भाजपा ने स्वाति को मंत्री पद का तोहफा दिया।

ये भी पढ़ेंःमीडिया कर्मियों के मेडिकल कैम्प में पहुंची स्वाती सिंह, नेत्र परीक्षण के बाद कही ये बात