SP AKHILESH

लखनऊ /दिल्ली। सदन के सियासत की गर्मी अब लखनऊ में भी दिखने लगी है। फोन की जासूसी पर विपक्ष के राजनीतिक दल सत्ता पक्ष को घेरने लगे हैं। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि फोन की जासूसी करवाकर लोगों की व्यक्तिगत बातों को सुनना ‘निजता के अधिकार‘ का घोर उल्लंघन है। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी पर हमला करते हुए कहा कि अगर ये काम भाजपा करवा रही है तो ये दंडनीय है। उन्होंने कहा कि अगर भारतीय जनता पार्टी सरकार यह कहती है कि उसे इसकी जानकारी नहीं है तो ये राष्ट्रीय सुरक्षा पर बीजेपी की नाकामी है। उन्होंने कहा कि फोन-जासूसी एक लोकतांत्रिक अपराध है।

ज्ञात हो कि नेताओं, पत्रकारों व अन्य लोगों की जासूसी की रिपोर्ट आने के बाद देश में हंगामा मचा हुआ है। मानसून सत्र के पहले दिन सोमवार को संसद में हंगामा होता रहा और कोई कार्यवाही नहीं हो सकी। दूसरे दिन मंगलवार को कार्यवाही शुरू होते ही हंगामा शुरू हो गया। दोपहर के बाद भी हंगामा होता रहा जिससे संसद की कार्यवाही बाधित रही।

सोमवार को आई रिपोर्ट से पता चला कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई सहित कई हाईप्रोफाइल लोगों के फोन टैप किए जा रहे थे। लोगों की गोपनीय सूचनायें हैक की जा रही थी। विपक्ष ने सरकार ने जवाब मांगा है जिस पर सरकार का कहना है कि यह देश को बदनाम करने की साजिश है।

यह भी पढ़ेंः-अखिलेश यादव की नहीं बनती अपनी सौतेली मां साधना से, पत्नी डिंपल भी रहती हैं दूर, जानें वजह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here