Monday, December 6, 2021

अखिलेश ने CM पर साधा निशाना, बाबा ने पलायन नहीं किया होता तो UP के पांच साल बर्बाद नहीं होते

Must read

- Advertisement -

मुजफ्फरनगर। विधानसभा चुनाव की तैयारियों में लगी सपा और भाजपा अब एक-दूसरे पर तल्ख बयानबाजी करने लगे हैं। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अष्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को मुजफ्फरनगर की जनसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ पर सीधा हमला बोला है। कैराना के पलायन मुद्दे पर सीएम योगी को घेरते हुए कहा कि अगर बाबा मुख्यमंत्री ने उत्तराखंड से पलायान न किया होता तो आज यूपी के पांच साल बर्बाद नहीं हुए होते। अखिलेश यादव ने मुजफ्फरनगर की धरती से मुख्यमंत्री पर जमकर हमले बोले। उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार की लैपटॉप योजना को क्यूं बंद किया गया, वो बाद में पता चला। उन्होंने कहा कि बाबा मुख्यमंत्री लैपटॉप चलाना ही नहीं जानते। अखिलेश यादव ने कहा कि जब लैपटाॅप चलाना नहीं जानते तो बंद कर दिया।

- Advertisement -

जनसभा को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि ‘अभी आए थे बाबा मुख्यमंत्री। बाबा मुख्यमंत्री आए थे कम से कम उन्हें अपना घोषणापत्र पढ़ना चाहिए। उन्हें अपना संकल्प पत्र पढ़ना चाहिए। अभी तक तो हम सोचते थे कि बाबा मुख्यमंत्री इसलिए लैपटॉप नहीं बांटे क्योंकि वह लैपटॉप चलाना नहीं जानते हैं। उन्होंने लोगों को आह्वान करते हुए कहा कि तो तय करो कौन सी सरकार चाहिए। मुख्यमंत्री कहते हैं पलायन हो गया और सच्चाई तो यह है अगर उत्तराखंड से मुख्यमंत्री जी का पलायन न होता तो 5 साल हमारे खराब नहीं होते। उन्होंने बीजेपी शासन पर निशाना साधा।

कोरोना में फेल रही सरकार

अखिलेश ने कहा कि उन्होंने रोजगार, किसानों के मुद्दे, कानून-व्यवस्था, भ्रष्टाचार जैसे तमाम मुद्दों पर प्रदेश को पीछे कर दिया। अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार को करों महामारी पर भी खरी खोटी सुनायी। उन्होंने कहा कि इस सरकार में सही समय पर इलाज नहीं किया। कोरोना में कोई इंतजाम नहीं किया। ऑक्सीजन के बिना लोग मर गए। शवों को दफनाने, अंतिम संस्कार तक की व्यवस्था नहीं थी। लॉकडाउन में गरीब मजदूर पैदल घर को गये। इस दौरान कोई काम आया तो वो सपा की एम्बुलेंस काम आई हैं।

पुलिस पर उठाए सवाल

अखिलेश यादव ने पुलिस की कारस्तानी को उजागर किया। उन्होंने कहा कि पूरे देश में कहीं भी पुलिस किसी की हत्या कर रही हो तो बताओ। एक उदाहरण नहीं हम कई उदाहरण उत्तर प्रदेश के दे सकते हैं। जहां पर बीजेपी की सरकार में निर्दोष लोगों की हत्या हो गई। गोरखपुर को कौन भूल जाएगा, जहां व्यापारी की हत्या हुई। गोरखपुर के लिए भाजपा सरकार दोषी हैं। सबसे ज्यादा हिरासत में मौत हुई हैं तो भाजपा सरकार में हुई हैं। सपा ने पुलिस को सबसे ज्यादा प्रमोशन किये। 100 की सुविधा भी सपा ने दी।

यह भी पढ़ेंः-कांग्रेस-बसपा से लग चुका है जोर का झटका, अब छोटे दलों से गठबंधन करेंगे अखिलेश यादव

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article