Categories
उत्तर प्रदेश राजनीति

अखिलेश ने कहा BJP का डूब जाएगा सूरज तो जयंत ने कहा ‘बाबा जी’ को फ्री कर देंगे

मेरठ। समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव और राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के मुखिया जयंत चौधरी के बीच चुनावी गठबंधन पर सहमति कायम होने के बाद मंगलवार को मेरठ में सपा-रालोद रैली हुई। पहली संयुक्त रैली से गठबंधन के चुनाव प्रचार की औपचारिक शुरुआत हो गई है। जयंत चौधरी के संबोधन के बाद अखिलेश यादव ने कहा कि इतनी भीड़ के लिए मैं सभी नेताओं का धन्यवाद करता हूं और किसानों का भी धन्यवाद करता हूं। सपा मुख्यिा ने कहा कि किसानों नौजवानों और माताओं व बहनों और पत्रकारों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने चौधरी चरण सिंह को याद करते हुए अपनी बात शुरू की।

अखिलेश यादव ने कहा कि मेरठ की क्रांतिकारी धरती ने चौधरी चरण सिंह जैसे लोगों को जन्म दिया, जिन्होंने किसानों के हित में काम किया। रैली को सम्बोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि अब उत्तर प्रदेश से बीजेपी का सफाया होगा। आज का ये जनसैलाब और जोश बता रहा है कि इस बार पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी का सूरज डूब जाएगा और हमेशा के लिए डूबेगा।

सीएम योगी पर साधा निशाना

जयंत चौधरी ने कहा कि सरकार बनेगी तो सबसे पहले मेरठ में किसानों के लिए एक स्मारक हम बनाएंगे। जिससे शहीद किसानों की कुर्बानी याद रखी जाए। जयंत ने कहा कि योगी औरंगजेब पर बात शुरू करते हैं और अंत में पलायन पर आ जाते हैं। पेपर दिला नहीं पाते। शिक्षकों, अभ्यर्थियों का नुकसार होता है। मजबूर होकर नौजवान दूसरे प्रदेश जाकर नौकरी ढूंढते हैं। योगी जी को ये पलायन नहीं दिखता। बाबा जी को गु्स्सा भी बहुत आता है। कभी मु्स्कराते नहीं हैं। 2022 में बाबा जी को इतना फ्री कर देंगे कि गोरखपुर में बछड़ों के साथ खेलें। जयंत ने कहा कि आज कल राजनीति में एक शब्द का प्रयोग बहुत होता है फायरब्रांड नेता…। योगी जी फायरब्रांड नहीं हैं।

एक साल किसानों का अपमान हुआ लेकिन भाजपा के किसी भी नेता की एक शब्द भी बोलने की हिम्मत नहीं हुई। ये फायरब्रांड कैसे हुए. उन्होंने कहा कि किसानों के मामले में भाजपा को दाढ़ी भी मुंडवानी पड़ी, नाक भी कटवानी पड़ी। जयंत ने रैली में बीजेपी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि डबल इंजन की सरकार का देखा आपने क्या हाल है। बिजनौर में विधायक ने नारियल फोड़ा, सड़क टूट गई। जयंत ने कहा कि आज इसी मंच से मैं गठबंधन का ऐलान करता हूं। यह डबल इंजन की सरकार आएगी और प्रदेश को नए आयाम तक ले जाएगी।

अखिलेश यादव और जयंत रैली में भारी भीड़ उमड़ी है। मंच पर चौधरी अजित सिंह के बड़े-बड़े कटआउट लगाए गए हैं। साथ ही मंच पर गन्ना भी बाधा गया है। ऐसा माना जा रहा है मंच से किसान को साधने की कोशिश की जाएगी। वहीं दबथुला में मंच से अखिलेश यादव और जयंत ने मंच से सपा-रालोद के बीच गठबंधन किया ऐलान। अखिलेश और जयंत का मंच पर कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया और डॉ. भीमराव आंबेडकर, चौधरी अजित सिंह और कल्याण सिंह की तस्वीर भेंट की।

दबथुआ में हो रही रालोद-सपा गठबंधन की पहली रैली में अखिलेश यादव और जयंत चौधरी के पहुंचने से पहले किसान, पेंशन और किसानी के मुद्दे छाए हुए हैं। दोनों ही पार्टियों के स्थानीय नेताओं के निशाने पर केंद्र और राज्य सरकार हैं। पार्टी नेताओं ने केंद्र और राज्य सरकार पर किसानों को धोखा देने और फसलों को लूटने के आरोप लगाये। पार्टी नेताओं ने प्रदेश सरकार पर रोजगार छीनने और पेंशन खत्म करने पर नाराजगी जाहिर की। एक बजे तक रैली स्थल पर कार्यकर्ता पहुंच रहे हैं। रैली में सपा कार्यकर्ताओं की संख्या अधिक है।

यह भी पढ़ेंःBJP अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने किया पलटवार, कारसेवकों पर गोलियां चलाने का श्रेय अखिलेश लेंगे