Categories
उत्तर प्रदेश राजनीति लखनऊ

‘लाल टोपी’ बयान मामले में पीएम मोदी पर अखिलेश का पलटवार, बताया रंग का ये नाम

लखनऊ। समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान पर करारा पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की भाषा ‘और बदलेगी’। अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश में सरकार बदलने का दावा किया है। राज्य में साल 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं। पीएम मोदी ने गोरखपुर में एक कार्यक्रम के दौरान उत्तर प्रदेश के नागरिकों को ‘लाल टोपी’ वालों से बचने की सलाह दी थी। अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि लाल टोपी भावनाओं का रंग है। खून का रंग लाल है। लाल टोपी लोगों को जोड़ने का रंग है। उन्होंने सवाल किया कि क्या भारतीय जनता पार्टी के लोगों का खून काला है?

उन्होंने कहा कि जहां तक सवाल लाल टोपी का है तो लाल टोपी की चमक दिल्ली तक पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि लाल टोपी के लेाग बदलाव के लिए तैयार हैं। उत्तर प्रदेश में बदलाव होना निश्चित है। उन्होंने बगैर नाम लिए तंज कसा कि भाजपा में हार का डर भाषा में बदल रहा है। यह लाल टोपी का बयान डर से आ रहा है। अखिलेश यादव ने कहा कि वे छोटे-छोटे दलों के साथ यूपी के चुनावी मैदान में उतरने के लिए तैयार हैं। मुलायम सिंह यादव और पार्टी के कई नेता समेत कार्यकर्ता आमतौर पर लाल टोपियों में नजर आते हैं। यह पार्टी की पहचान का रंग है।

अखिलेश यादव ने मंगलवार को ट्वीट के जरिए भाजपा पर महंगाई, बेरोजगारी समेत कई मुद्दों पर निशाना साधा। उन्होंने लिखा कि भाजपा के लिए ‘रेड अलर्ट’ है। महंगाई का, बेरोजगारी-बेकारी का, किसान-मजदूर की बदहाली का, हाथरस, लखीमपुर, महिला व युवा उत्पीड़न का, बर्बाद शिक्षा, व्यापार व स्वास्थ्य का और ‘लाल टोपी’ का क्योंकि वो ही इस बार भाजपा को सत्ता से बाहर करेगी। उन्होंने चुनौती देते हुए कहा कि लाल का इंकलाब होगा, बाइस में बदलाव होगा!

प्रधानमंत्री ने गोरखपुर एम्स, खाद कारखाने और आईसीएमआर के क्षेत्रीय केंद्र का लोकार्पण करने के बाद अपने संबोधन में सपा पर हमला करते हुए कहा कि लोहिया जी और जयप्रकाश नारायण के आदर्शों और अनुशासन को यह लोग कब का छोड़ चुके हैं। आज पूरा उत्तर प्रदेश अच्छी तरह जानता है कि लाल टोपी वालों को लाल बत्ती से मतलब रहा हैं। उनको आपके दुख तकलीफ से कोई लेना देना नहीं है। मोदी ने आरोप लगाया कि लाल टोपी वालों को सत्ता चाहिए. घोटालों के लिए, अपनी तिजोरी भरने के लिए, अवैध कब्जों के लिए, माफियाओं को खुली छूट देने के लिए। लाल टोपी वालों को सरकार बनानी है आतंकवादियों पर मेहरबानी दिखाने के लिए, उन्हें जेल से छुड़ाने के लिए इसलिए याद रखिए कि लाल टोपी वाले यूपी के लिए रेड अलर्ट हैं। यानि खतरे की घंटी हैं।

यह भी पढ़ेंः-गैंगरेप पीड़िता के लिए मांगा न्याय, अखिलेश यादव और आप सांसद संजय सिंह ने BJP पर साधा निशाना