Categories
उत्तर प्रदेश लखनऊ

अखिलेश ने रद की अयोध्या की विजय रथ यात्रा, सूचना विभाग पर लगाये ये आरोप

  • भारतीय जनता पार्टी का प्रचार-प्रसार कर रहा सूचना विभाग: अखिलेश यादव
  • सपा की सरकार बनते ही बीजेपी का प्रचार करने वाले अफसरों पर होगी कार्रवाई

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तैयारियों के बीच कोरोना भी तेजी से कहर ढा रहा है। कोरोना की भयावहता के बीच अब चुनावी रैलियों में जाने से लोग डर रहे हैं। सियासी दलों पर भी भीड़ जुटाने का आरोप लग रहा है। समाजवादी पार्टी के मुखिया और पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने फिलहाल अपने विजय रथ यात्रा को रद कर दिया है। 9 जनवरी को अखिलेश यादव अयोध्या में विजय रथ यात्रा निकालने वाले थे। उन्होंने कोरोना के बढ़ते संक्रमण की वजह से विजय रथ यात्रा को टाल दिया है। 8 जनवरी की रात को अयोध्या सर्किट हाउस में रात्रि विश्राम के बाद 9 जनवरी को अखेलिश यादव की अयोध्या में विजय रथ यात्रा प्रस्तावित थी।

ज्ञात हो कि अयोध्या शहर और रुदौली में उनकी दो जनसभा भी होनी थी जो स्थगित कर दी गई है। समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय और लोहिया वाहिनी के प्रदेश सचिव विशाल मणि यादव उर्फ रिक्की यादव ने अखिलेश यादव के कार्यक्रम के रद होने की पुष्टि की है। उन्होंने विजय रथ यात्रा को रद होने का कारण कोरोना के बढ़ते संक्रमण को बताया है। इससे पहले एक कार्यक्रम के दौरान अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश के सूचना विभाग पर भारतीय जनता पार्टी का प्रचार-प्रसार करने का आरोप मढ़ा है। उन्होंने कहा कि राज्य में सपा की सरकार बनते ही बीजेपी का प्रचार करने वाले अफसरों पर कार्रवाई की जाएगी।

अखिलेश यादव ने एक प्रेस नोट जारी कर कहा कि सूचना विभाग का काम सरकारी विकास कार्यों का प्रचार प्रसार करना है। विभाग वर्तमान में आरोप का प्रसार कर रहा है। इसके बावजूद लाल टोपी दिखाकर फर्क बताने वाले राजनीतिक विज्ञापन जारी किए जा रहे हैं। अखिलेश यादव का आरोप है कि सूचना विभाग बीजेपी के राजनीतिक प्रचार-प्रसार में लगा हुआ है।

यह भी पढ़ेंः-नफरत की दुर्गंध फैलाने वाले सोहार्द्र की सुगंध कैसे पसंद करेंगे : अखिलेश यादव