जेबकतरे को पकड़ने के लिए सिपाही बना रिक्शा चालक, तीन दिन की गश्त के बाद धर दबोचा

227

आगरा पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का भंड़ाफोड़ किया है, जिसने लोगों की नाक में दम करके रख दिया था. इतना ही नहीं बड़ी चालाकी के साथ यह आपने काम को अंजाम देकर नौ दो ग्यारह हो जाता था. जिसकी भनक भी लोगों को नहीं लगती थी. दरअसल पूरा मामला आगरा के थाना हरीपर्वत क्षेत्र का है जहां एक सिपाही ने तीन दिन तक ई रिक्शा चलाया वो भी इसलिए कि आरोपी को रंगेहाथ पकड़ सके. बता दें कि हरिपर्वत इलाके में कई दिनों से शंकर नाम के आरोपी  जेबकतरे ने लोगों की जेबें काटी. जिससे परेशान होकर लोगों ने इसकी शिकायत हरिपर्वत थाने में की. वहीं ई रिक्शा चला रहे सिपाही ने ठान लिया था कि इस बार इस आरोपी को रंगेहाथ पकड़ना है. और इत्तेफाक से शुक्रवार को वह सिपाही के रिक्शे में भी बैठ गया. इस दौरान रिक्शे में एक बुजुर्ग की जेब काटने पर सिपाही ने आरोपी शंकर को रंगेहाथ पकड़ लिया. जहां से उसे थाने ले जाया गया।

ये भी पढ़ें:-आगरा के इस फार्म हाउस में चल रहा था देह व्यापार, पुलिस ने ऐसे किया भंड़ाफोड़, 12 गिरफ्तार

बताया जा रहा है कि आरोपी शंकर को पकड़ने के लिए सिपाही गौतम को ई-रिक्शा का चालक बनाया गया. वो संजय प्लेस से लोहामंडी तक ई-रिक्शा चलाते, इस दौरान अन्य चालकों से बातचीत में संदिग्धों के बारे में पूछते. वहीं गुरुवार दोपहर संजय प्लेस से हरीपर्वत चौराहे के लिए बुजुर्ग सवारी उनके ई-रिक्शा में बैठी, उसके बराबर में एक व्यक्ति अपने पैरों पर थैला रखकर बैठ गया, उसने बुजुर्ग की जेब काट ली. बुजुर्ग के शोर मचाने पर सिपाही ने पकड़ लिया. उसके पास से 65 हजार रुपये बरामद हुए।

बता दें कि रिक्शे में जिस बुजुर्ग की आरोपी ने जेब काटी थी, वो एक कपड़ा शोरूम में काम करते हैं. वह अपनी बेटी की शादी के लिए बैंक से रकम निकालकर आ रहे थे. तभी आरोपी शंकर ने उनकी जेब काट ली. वह घबरा गए चारों ओर शोर मचाया तो सिपाही ने उसे मौके पर ही दबोच लिया. आरोपी शंकर अपने आपको थाना छिबरामऊ कन्नौज का बता रहा है, वहीं पुलिस से गैंग के बारे में पूछने पर बीमारी का बहाना बनाने लगा, हालांकि उसके परिवार वालों को पुलिस ने बुला लिया है, आगे की कानूनूी कार्यवाई की जा रही है।

ये भी पढ़ें:-सीने में धंसी थी गोली, खून से था लथपथ, थाने पहुंचा युवक, तो पुलिस रह गई दंग