Monday, December 6, 2021

नौ साल बाद ऐसे मिला इंसाफ, दो को फांसी तो पांच को उम्रकैद

Must read

- Advertisement -

प्रतापगढ़। उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ के पॉक्सो कोर्ट ने दो हत्यारोपियों को दोष सिद्ध होने के बाद बुधवार को सजा सुना दी। दो दोषियों को फांसी की सजा दी गयी है। जबकि पांच अन्य हत्या के दोषी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। न्यायलय ने दोषियों पर दो-दो लाख का आर्थिक जुर्माना भी किया है। हत्या के आरोपी तत्कालीन शिक्षक राजेश सिंह और नौशाद अली को विशेष न्यायधीश पॉक्सो कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है। इसी मामले में अन्य साथी प्रमोद तिवारी, अशोक मिश्र, प्रदीप सिंह, अनुज दूबे, अरुण सिंह को कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई। प्राथमिक शिक्षा संघ के जिलाध्यक्ष शोभनाथ मिश्र हत्याकांड के मामले में न्यायलय ने यह सजा सुनाई।

- Advertisement -

14 जुलाई 2012 को जिलाध्यक्ष शोभनाथ मिश्र की घर मे घुसकर गोलीमार हत्या की गई थी। हत्या के दिन रात नौ बजे दोषी शिक्षक राजेश सिंह अपने आधा दर्जन गुर्गों के साथ शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष शोभनाथ मिश्र के घर पर पहुंचा। जहां विवाद करने के बाद उनकी गोली मार हत्या कर दी थी। हत्या के बाद आरोपी फरार हो गये। मृतक के परिजनों ने शिक्षक समेत सात आरोपियों को नामजद करते हुए हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था।

9 साल की सुनवाई के बाद सजा

केस का ट्रायल होने के बाद विशेष न्यायधीश पॉक्सो कोर्ट पंकज श्रीवास्तव ने आरोपियों को कड़ी सजा सुनाते हुए दो व्यक्ति को फांसी और पांच दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। इस मुकदमे की पैरवी अनिल कुमार मिश्र शासकीय फौजदारी के अधिवक्ता द्वारा की गई। प्रतापगढ़ में फांसी की सजा चर्चा का विषय बना हुआ है।

यह भी पढ़ेंः-सुप्रीम कोर्ट के बाहर आत्मदाह करने वाली छात्रा की मां ने मांगी न्याय, आरोपी बसपा सांसद को मिले फांसी

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article