Wednesday, December 8, 2021

जयंत चौधरी, संजय सिंह के बाद अखिलेश से मिलीं कृष्णा पटेल, इस एजेंडे पर हैं साथ-साथ

Must read

- Advertisement -

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव करीब आने के साथ ही समाजवादी पार्टी ने छोटे दलों से गठबंधन किलेबंदी कर दी है। सपा ने सभी सहयोगी दलों को अधिकतम 50 सीट देने का फैसला किया है। 403 सदस्यीय विधानसभा में कम से कम 350 सीटों पर सपा अपने उम्मीदवार उतारेगी। इनमें सहयोगी दलों के कुछ उम्मीदवार ऐसे भी होंगे जो सपा के चुनाव चिह्न चुनाव लड़ेंगे। रालोद के जयंत और आम आदमी पार्टी के संजय सिंह के बाद अपना दल (कृष्णा गुट) की नेता कृष्णा पटेल ने भी बुधवार को अखिलेश से मुलाकात की। ज्ञात हो कि कृष्णा पटेल प्रतापगढ़ सदर सीट से खुद चुनाव लड़ना चाहती हैं। सपा के साथ सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) और राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के गठबंधन की रूपरेखा तय कर ली गई है।

- Advertisement -

Krishna patel

सपा के गठबंधन के रोडमेप के दायरे में सुभासपा और रालोद बाद अब आम आदमी पार्टी (आप) एवं अपना दल (कृष्णा गुट) भी आ गए हैं। अपना दल कृष्णा गुट की अध्यक्ष कृष्णा पटेल ने कहा कि सीटों के बंटवारे के साथ ही गठबंधन पर सहमति बन चुकी है। जल्द ही इस संबंध में प्रेसवार्ता में इसका औपचारिक ऐलान कर दिया जाएगा। लगातार तीन चुनाव में हार का सामना कर चुके अखिलेश यादव इस बार कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहते है। यही वजह है कि इस बार वे पूर्वांचल से लेकर पश्चिम यूपी तक जातीय समीकरण साधने में जुटे हैं। अखिलेश यादव गैर यादव पिछड़ा वोट बैंक साधने के लिए छोटे-छोटे दलों से गठबंधन कर रहे हैं। अपना दल और अपना दाल कृष्णा गुट का प्रयागराज से लेकर सोनभद्र तक असर है। कुर्मी वोट बैंक में सेंधमारी के लिए यह गठबंधन कारगार हो सकता है।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी के बीच मंगलवार को हुई कई दौर की बैठक में रालोद को 36 सीट देने पर सहमति बन गयी है। इनमें से 8 सीटों पर रालोद के उम्मीदवार सपा के चुनाव चिह्न पर चुनाव लड़ेंगे। 28 सीटों पर रालोद के चुनाव चिह्न पर पार्टी अपने उम्मीदवार उतारेगी। रालोद ने गठबंधन के तहत सपा से 50 सीटों की मांग की थी। पश्चिमी उत्तर प्रदेश की चरथावाल सीट सहित तीन सीटों पर उम्मीदवार को लेकर पेंच फंसा है। चरथावाल सीट पर जयंत चौधरी खुद चुनाव लड़ना चाहते हैं जबकि सपा हाल ही में भाजपा से छोड़कर पार्टी में शामिल हुये हरेन्द्र मलिक को इस सीट से उतारना चाहती है। हरेन्द्र मलिक वरिष्ठ नेता है।

भाजपा के कुशासन से मुक्त कराना एजेंडा

लोहिया ट्रस्ट में सपा के कैंप कार्यालय में अखिलेश के साथ मुलाकात के बाद संजय सिंह ने संवाददाताओं को बताया कि बैठक में सार्थक चर्चा हुई। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश को भाजपा के कुशासन से मुक्त करने के लिये एक कॉमन एजेंडे पर काम कर रहे हैं। सीटों के बंटवारे के सवाल पर उन्होंने कहा कि अभी बातचीत शुरू हुई है, आगे अभी बातचीत जारी रहेगी। इस बीच सपा सूत्रों ने बताया कि दिल्ली में सत्तारूढ़ आप ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की शहरी सीटों पर चुनाव लड़ने की इच्छा जताई है। संजय सिंह ने लगभग दो दर्जन सीटों की सूची सौंपी है जिन पर आप ने मजबूती से चुनाव लड़ने का दावा किया है।

यह भी पढ़ेंः-अखिलेश से आप नेता संजय सिंह की मुलाकात के बाद चढ़ा सियासी पारा, गठबंधन पर सियासी नजर

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article