ज्योतिष शास्त्र में अगर किसी ग्रह को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है तो वह ग्रह होता है शनि. मान्यता है कि शनि की कुदृष्टि जिस पर भी पड़ती है, उसका सब कुछ नष्ट हो जाता है, लेकिन अगर किसी पर शनिदेव की कृपा हो जाए तो वह इंसान रंक से भी राजा बन जाता है. शनिदेव को न्याय का देवता कहा जाता है. वह हर एक इंसान को दंडित करते हैं जो गलत कार्यों में लिप्त होता है. तो वहीं जो व्यक्ति ईमानदारी और परिश्रम से अपना काम करता है. उस पर उनका आशीर्वाद सदैव बना रहता है. हर व्यक्ति कभी ना कभी सनी की कुदृष्टि का सामना करता है. ज्योतिष शास्त्र में 12 राशियों का अध्ययन किया जाता है और हर राशि का अलग-अलग स्वामी ग्रह होते हैं.

अपनी-अपनी राशियों पर हर स्वामी ग्रह पूरा प्रभाव रखते हैं. ऐसा माना जाता है कि हर राशि पर शनि की दृष्टि का प्रभाव अलग अलग तरीके से पड़ता है .दो राशियां ऐसी हैं जिन पर शनिदेव की विशेष कृपा हमेशा बनी रहती है . बता दें कि कुंभ और मकर राशि के स्वामी ग्रह शनि देव हैं . इन दोनों ही राशि के जातकों पर हमेशा न्याय के देवता अपनी कृपा बनाए रखते हैं. कर्मफल दाता शनि देव इन लोगों को कठिनाइयों का सामना नहीं करने देते हैं. इस राशि के जातक बहुत ही ज्यादा किस्मत वाले होते हैं तो आइए जानते हैं कुंभ और मकर राशि के जातकों से जुड़ी कुछ खास बातें……..

मकर राशि

इस राशि के स्वामी शनि देव को माना जाता है. मकर राशि के जातक बहुत ही धनी किस्मत के होते हैं. उन पर हर वक्त शनिदेव की कृपा बनी रहती है. इस कारण वह अधिकतर सारे दुखों से दूर रहते हैं, जिसके कारण उनका स्वास्थ्य और भी अधिक अच्छा रहता है शनिदेव मकर राशि के जातकों पर हमेशा प्रसन्न बने रहते हैं.

कुंभ राशि

कुंभ राशि के जातकों के लिए यह बहुत ही खुशी की बात है कि उनके स्वामी ग्रह शनि देव हैं. इस राशि के लोग काफी सरल स्वभाव के होते हैं. कुंभ राशि के जातकों पर भी शनिदेव की कृपा हमेशा बनी रहती है और यह लोग हमेशा दूसरों की मदद करने के लिए तत्पर रहते हैं. बता दें कि जो लोग हमेशा दूसरों की मदद करना चाहते हैं और उसके लिए आगे बढ़ते हैं. शनिदेव हमेशा उनकी मदद करते हैं और उन पर अपनी कृपा बनाए रखते हैं . बता दें कि शनिदेव की कृपा पाने के लिए हर शनिवार के दिन शनि देव की पूजा करनी चाहिए . जिन लोगों की कुंडली में शनि निम्न स्थान पर है उन्हें इस दिन हर उपाय करने चाहिए .कुंडली में शनि दोष के प्रभाव को कम किया जा सकता है.

इसे भी पढे़ं-बेटे की मौत के बाद टूट गया था प्रकाश राज का रिश्ता, पहली शादी तोड़ रचाई थी दूसरी शादी