नए वित्त वर्ष के साथ जुड़े नए नियम, जल्दी जान लीजिए

0
193
e-filing-income-tax-return

1 अप्रैल 2019 यानी की आज से नए वित्त वर्ष की शुरूआत हो गई । इस नए वित्त वर्ष के साथ देश में कई बदलाव आए है। हर साल की तरह इस साल भी कई तरह के नए कानून लगाए गए है और पुराने कानून को खत्म किया गया है। जिसका असर सीधा आपकी जेब पर पड़ता हुआ नजर आएगा। तो आइए बताते है कि वो नए नियम जो आपके जीवन को भी बदलने का काम करेंगे।

पीएफ अकाउंट होगा ट्रांसफर
1 अप्रैल 2019 से सबसे बड़ा बदलाव अब नौकरीपेशा लोगों के जीवन में आएगा। सरकार ने कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के नियमों में एक अप्रैल से बदलाव किए है। जिसके तहत सरकार ने कहा है कि अगर 1 अप्रैल 2019 के बाद अगर कोई भी कर्मचारी अपनी नौकरी को बदलता है कि उसका पीएफ अकाउंट भी अपने आप ही दूसरी वाली कंपनी में ट्रांसफर हो जाएगा। इसका फायदा ये होगा कि आपको अब पीएफ के लिए आवेदन नहीं करना होगा।

महंगे हो जाएंगे नए वाहन
इन दिनों कच्चे माल की कीमत में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। जिससे परेशान आकर अब वाहन निर्माता कंपनी ने भी अपने वाहनों की कीमत बढ़ाने का फैसला किया है। वाहनों की नई कीमतें 1 अप्रैल से लागू होगी। इस लिस्ट में टाटा मोटर्स, रेनो, महिंद्रा, समेत कई कंपनियों के नाम है।

आज से सिर्फ प्रीपेड मीटर लगेंगे
1 अप्रैल से आपके घर में बिजली के मीटर में बड़ा बदलाव हो रहा है। केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय के मुताबिक, 1 अप्रैल के बाद देशभर में बिजली के केवल प्रीपेड मीटर लगेंगे। जिसका फायदा ये होगा कि आपके मीटर भी अब मोबाइल की तरह काम करेंगा। जिसे आप जितना इस्तेमाल करोंगे। उतना ही बिल आएगा। इस मीटर को आपको रिचार्ज करवाना होगा। इससे बिजली बिल में धोखाधड़ी जैसी समस्या पर लगाम लगेगी।

रियल एस्टेट के लिए जीएसटी की नई दरें
1 अप्रैल 2019 से देश में जीएसटी की नई दरें लागू हो जाएंगी। इसके बाद सस्ते घरों पर 1 फीसदी और अंडर कंस्ट्रक्शन घरों पर 5 फीसदी की दर से जीएसटी लागू होगा। यह नई दरें 1 अप्रैल के बाद शुरू होने वाले प्रोजेक्ट्स पर लागू होंगी। जीएसटी काउंसिल ने पहले से चल रहे प्रोजेक्ट्स के लिए बिल्डरों को नई या पुरानी दरों में से एक विकल्प चुनने का समय दिया है। नई दरों के लागू होने के बाद घरों की कीमतों में कमी आने की संभावना जताई जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here