फेसबुक, ट्विटर यूजर्स सावधान हो जाएं, अब फर्जीवाड़े का खेल नहीं चलेगा

0
232
social_media

अक्सर लोग सोशल मीडिया पर अपने डेटा की सुरक्षा के लिए फेसबुक, वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम के प्रतिनिधियों के अधिकारियों से चर्चा के लिए कहते हैं. और इन सभी अधिकारियों को समिति ने अब मार्च की शुरुआत तक पेश होने के लिए कहा है. समिति ने ट्विटर सीईओ को भी बैठक में चर्चा के लिए बुलाया है. क्योंकि सोशल मीडिया पर लोग अब राजनीतिक झूठी खबरों को प्रसारित करते हैं. जिससे कहीं ना कहीं दुष्परिणाम भी झेलने पड़ जाते हैं. और जब लोकसभा चुनाव नजदीक हैं तो इन कंपनियों ने को कड़ी निगरानी से गुजरना पड़ रहा है. क्योंकि लोग ज्यादा से ज्यादा फेक न्यूज फैला रहे हैं. हालांकि अभी ये पूर्ण रूप से स्पष्ट नहीं है कि बैठक के लिए भारत के अधिकारियों को बुलाया गया है, या कंपनी के ग्लोबल प्रतिनिधियों को भी पेश होने के लिए कहा गया है.

समिति ने इसी मुद्दे को लेकर ट्विटर सीईओ को 25 फरवरी को पेश होने के निर्देष दिए हैं. और खबर ये भी आ रही है कि डोर्सी संसदीय के समक्ष पेश नहीं होंगे. बल्कि उनकी जगह पर ट्विटर लोक नीति प्रमुख पैनल में शामिल होने आएंगे. ट्विटर प्रवक्ता ने शुक्रवार को अपना बयान जारी कर कहा कि, “हम सोशल मीडिया और ऑनलाइन न्यूज प्लैटफॉर्म्स पर लोगों के अधिकारों की सुरक्षा पर ट्विटर के विचार सुनने के लिए आमंत्रित करने के लिए संसदीय समिति का बहुत धन्यवाद करते हैं”. उन्होंने ये भी कहा कि “सोमवार को ट्विटर के लोक नीति विभाग के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष कोलिन क्रोवेल समिति के साथ बैठक करेंगे”.

आपको बता दें, नागरिक पहले से ही इस बात की शिकायत करते आ रहे हैं, कि उनकी निजी जानकारियां भी सोशल मीडिया पर लीक हो जाती हैं. जिसे लेकर कई बार सोशल मीडिया पर सवाल खड़े हो जाते हैं. और इससे ज्यादा लोग ऐसी जानकारियों को सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं.facebook जो फेक होती हैं. जिसका प्रभाव समाज के लोगों पर नकारात्मक पड़ता है. फेक न्यूज को रोकने के लिए सोशल मीडिया भी कई बड़े कदम उठा रहा है. ये भी पढ़ेंः- पाकिस्तान से हर रिश्ता खत्म कर दो पुलवामा अटैक के बाद गुस्से में भारतीय क्रिकेट के दादा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here