यह खबर सुनकर भारत के कोरोना मरीजों में खुशी की लहर, ये है बड़ी वजह

611

कोरोना का खौफ और रौब दोनों ही अपने चरम पर पहुंच रहा है। आए दिन बढ़ती संक्रमितों की संख्या के साथ भारत अब पहले पायदान पर पहुंच चुका है। अब ऐसे में सभी की आस भरी उम्मीद कोरोना वैक्सीन के ट्राइल पर टिकी हुई है। चिकित्सकों का साफ कहना है कि जब तक कोरोना की वैक्सीन बनकर तैयार नहीं हो जाती है, तब चक इससे मुकम्मल छुटकारा नहीं पाया जा सकता है। उधर, कोरोना वैक्सीन को लेकर शोध का सिलसिला जारी है। खबर है कि इंडियन इकोनॉमिक अखबार के मुतबिक, अब कोरोना मरीजों को महज 225 रूपए में कोरोना वैक्सीन उपलब्ध होगी। बताया जा रहा है कि यह कदम इसलिए उठाया गया है, ताकि जल्द से जल्द इस महामारी से छुटकारा पाया जा सके।

यहां पर हम आपको बताते चले कि मौजूदा समय में वैक्सीन का मानव परीक्षण के मामले में सबसे आगे ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और अमेरिका के मार्डिन है। इसके साथ ही वैक्सीन बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनियों में शुमार सीरम इस्टीट्यूट ऑफ इंडिया भी ऑक्सफोर्ड यूनिविर्सटी के साथ साझेदारी के रूप में वैक्सीन बनाने के काम में जुटी  है। फिलहाल तो कोरोना वैक्सीन का मानवीय परीक्षण अपने अंतिम चरण पर है। इसका सफल परीक्षण हो जाने के बाद भारत में इसका बड़े पैमाने पर उत्पादन किया जाएगा। इसके साथ ही सस्ती कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराने के संदर्भ में ईटी ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि निम्न और मध्यम-आय वाले देशों में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका सीओवीआईडी -19 वैक्सीन को केवल 3 डॉलर यानी लगभग 225 रुपये की कीमत लोगों को दिया जा सकता है। यह कदम इसलिए उठाया गया है, ताकि हर कोरोना मरीज को कोरोना वैक्सीन उपलब्ध हो सके।

आखिर इतनी सस्ती वैक्सीन कैसे मिल रही है?
इसके साथ ही अब हम यह जानने की कोशिश करते हैं कि आखिर इतनी कम लागत में वैक्सीन कैसे उपलब्ध हो पा रही है?  तो यहां पर हम आपको इस सवाल का सीधा जवाब देते चले कि गेट्स फाउडेंशन कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को 150 मिलियन डॉलर का जोखिम फंड दे रही है। वहीं, दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इस्टीट्यूट के सीईओ ने कहा कि मौजूदा समय में कोरोना वायरस ने सभी को अनिश्चतता की स्थिति में डाल दिया है, इसलिए हम यह प्रयास कर रहे हैं कि देश के दुर्गम इलाके और गरीब लोगों तक कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध हो सके। इस दिशा में हम अनवरत प्रयासरत है, ताकि इस गंभीर स्थिति से निपटा जा सके। ये भी पढ़े :घर में इस तरह रहने वालों के बीच भी फैल रहा है कोरोना वायरस..शोध में हुआ खुलासा