रक्षाबंधन पर नक्सली भाई का अपनी बहन को नायाब तोहफा, 13 साल बाद बंधवाई राखी, फिर किया समर्पण

161

आज रक्षाबंधन का त्योहार समस्त देश में पूरे हर्षों-उल्लास के साथ मनाया रहा है। इस दिन प्रत्येक बहनें अपने भाइयों की कलाइ पर दीर्घायु और अच्छे स्वास्थ्य की कामना करते हुए राखी बांधती है। इस त्योहार का अपना एक अलग महत्व है। अब इसी बीच आज इस त्योहार के अवसर पर दिल को सुकून देने वाली खबर सामने आई  है, वो भी उस जगह से, जो हमेशा से नक्सली गतिविधियों के लिए सुर्खियों में बनी रहती है। अगर यह सिलसिला यूं ही जारी रहा, तो वो दिन दूर नहीं, जब इस देश से नक्सलियों का गढ़ खत्म हो जाएगा। खबर छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा से है, जहां पर एक नक्सली भाई ने 12 साल बाद अपनी बहन से राखी बंधवाने के बाद पुलिस को आत्मसमर्पण कर दिया।

ये भी पढ़े :रक्षाबंधन के मौके पर छलका लता मंगेशकर का दर्द, PM मोदी ने यूं दिया दिलासा, ये थी बड़ी वजह

आपको यहां पर यह जानकर हैरानी हो सकती है कि उस नक्सली भाई को बहन खुद पुलिस स्टेशन लेकर पहुंची और फिर पुलिस के सामने पहुंचकर अपने भाई को राखी बांधी। इस विहगंम दृश्य को देख एक पल के लिए पुलिसकर्मियों की भी आंखें नम हो चुकी थी। राखी बंधवाने के बाद उसने  पुलिस को आत्मसमर्पण कर दिया। उस नक्सली की बहन  ने कहा कि अब मेरा भाई नक्सली गतिविधियों को छोड़कर मुख्यधारा में वापस लौटना चाहता है। एक सामान्य और  अच्छी जिंदगी जीना चाहता है। इस शख्स का नाम तामो बताया जा रहा है। नक्सली गतिविधियों के दौरान इसने कई नक्सली वारदातों को अंजाम दिया। पुलिसकर्मियों का कहना है कि अगर यह सिलसिला यूं ही जारी रहा, तो वो दिन दूर नहीं, जब नक्सलों का गढ़ स्वत: खत्म हो जाएगा।

ये भी पढ़े :रक्षाबंधन पर विशेष संयोग, इस सर्वश्रेष्ठ समय पर बांधे राखी की डोर, भूल से भी ना करें ये गलतियां