रंग लगाने पर करनी पड़ती है शादी, होली से जुड़ी है इस शहर की अजीबो-गरीब परंपरा

50
Not play with color

रिश्तों में रंगों का काफी महत्व माना जाता है. जो दुश्मन को भी एक कर देता है. रंग के बिना जिंदगी में भी कोई मजा नहीं है. इसका अंदाजा सालभर में आने वाले होली के त्योहार से लगाया जा सकता है. इस दिन देशभर के लोग रंगों में मदमस्त होते हैं. दुश्मन भी दोस्त बन जाते हैं. लोग एक-दूसरे को रंग लगाकर सारे गिले शिकवे दूर कर देते हैं, और एक साथ मिलकर खुशियां मनाते हैं. लेकिन आप ये नहीं जानते कि इस देश में एक ऐसी भी जगह है, जहां पर रंगों से खेलना बिल्कुल मना है. कहते हैं कि ये वहां की वर्षों पुरानी परंपरा है. जिसे आज भी लोग मानते आ रहे हैं.

ये भी पढ़ें:- ट्रेन में यात्रियों को नियम तोड़ने पर होगी जेल, लगेगा भारी जुर्माना, सफर करने से पहले जान लें ये नई शर्तें

दरअसल आज हम आपको उसी जगह के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां पर रंगों से होली का त्योहार नहीं मनाया जाता है. बल्कि पानी से होली खेली जाती है. ये जगह झारखंड के जमशेदपुर जिले में हैं. जी हां इस जिले के आदिवासी बहुल इलाकों में होली तो लोग खेलने लगे हैं. लेकिन आपको यहां रंग का छीटा भी नहीं दिखाई देगा.Not play with color क्योंकि लोग रंगों से नहीं बल्कि पानी से होली खेलते हुए आपको नजर आएंगे.

बता दें कि, इस आदिवासी बहुल इलाके में रहने वाले लोगों की मान्यता है कि, यदि गलती से किसी भी लड़के या लड़की ने रंग की होली एक साथ खेल ली. या फिर एक दूसरे पर दूर से भी रंग डाल देता है, तो उन्हें आपस में शादी करनी पड़ती है. यही एक बड़ी वजह है कि, लोग यहां पर रंगों से नहीं खेलते हैं. Not play with colorमाना जाता है कि, यहां पर ये नियम कायदे आज के नहीं बल्कि ये प्रथा कई सालों से ऐसे ही चली आ रही है. हैरानी वाली बात तो ये है कि, न जाने कितने सालों से यहीं पर बसे लोगों ने कभी रंग की होली नहीं खेली है.

जानकारी की माने तो होली वाले दिन यहां के रहने वाले लोग ढोल-बाजे के साथ लड़के और लड़की भी जमकर नाचते-गाते हैं, और फिर दोनों एक-दूसरे पर पानी डालते हैं, लेकिन किसी भी कीमत पर रंग से नहीं खेलते हैं.Not play with color यहां के स्थानीय आदिवासी होली से पहले ही पानी से खेलना शुरू कर देते हैं. यहां तक कि रात भर लोग एक-दूसरे पर पानी की बरसात करते हैं और होली का आंनद उठाते हैं. इस दौरान सभी अपनी पारंपरिक वेशभूषा को भी धारण करते हैं.

ये भी पढ़ें:- चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग ने किया युद्ध का ऐलान? सैनिकों को दिए ये बड़े आदेश, हाई अलर्ट पर सेना