सरकार का अजीबो-गरीब फरमान, 200 बंदरों के प्राइवेट पार्ट काटने का दिया आदेश, जानें पूरी वजह

1510
200 monkeys cut off private part

बंदरों के बढ़ते आतंक को देखते हुए सरकार की ओर से हाल ही में एक हैरान करने वाला फैसला लिया गया है. जिसके बारे में जानने के बाद शायद आपको भी अजीब लगे. दरअसल ये पूरा मामला थाईलैंड (Thailand) का है. यहां की सरकार ने बंदरों के खिलाफ एक अजीब सा फरमान सुनाया है. जी हां बंदरों के उत्पात को देखते हुए सरकार के दिए गए आदेश के बाद जंगली जानवरों के खिलाफ कार्रवाई करने वाले विभाग ने 200 से ज्यादा बंदरों के प्राइवेट पार्ट (Cut Monkeys private parts) को काट दिया है.

ये भी पढ़ें:- गजब..चुनाव जीतने की खातिर अपने दोस्त की पत्नी उधार लेकर रचाई शादी, ये थी बड़ी वजह

दरअसल सरकार को ये कदम इसलिए उठाना पड़ा क्योंकि बंदरों के प्रजनन दर से यहां के लोग काफी ज्यादा परेशान थे. इसलिए प्रजनन दर पर रोक लगाई जा सके इसके लिए सरकार ने उनके पाईवेट पार्ट को ही काटने का आदेश दे दिया. खबरों की माने तो थाईलैंड में लगे लॉकडाउन के समय में बंदरों की संख्या में काफी ज्यादा बढ़ोतरी हुई है. यहां तक कि ये बंदर सोन्गखला शहर में जाकर वहां के रहने वाले स्थानीय लोगों को लगातार परेशान कर रहे हैं.

फिलहाल डेली मेल के हवाले से आई एक रिपोर्ट की माने तो वाइल्ड लाइफ विभाग की ओर से उन 200 बंदरों को पिजरों में बंद किया गया जिनके कारण लोगों को काफी ज्यादा परेशानी हो रही थी. इसके बाद उन्हें बेहोश किया गया और फिर उनके प्राइवेट पार्ट को ही काट दिया गया. इस तरह का रवैया सरकार ने इसके कारण अपनाया ताकि बंदर की बढ़ती आबादी पर कंट्रोल किया जा सके. रिपोर्ट के मुताबिक इनके प्राइवेट पार्ट को काटने के बाद बंदरों पर विशेष प्रकार का चिन्ह भी लगाया गया है. वो भी इसलिए ताकि आने वाले समय में यदि इस तरह की दिक्कत फिर आती है तो इन बंदरों को पहचाना जा सके.

इस बारे में एक अधिकारी ने बात करते हुए कहा कि हमारे लिए इन बंदरों की जनसंख्या को कंट्रोल करना बेहद जरूरी हो गया था. क्योंकि ये जंगली जानवर स्थानीय लोगों के घरों में घुसकर तांडव कर रहे थे. यहां तक कि लोगों के खाने से लेकर उनके जरूरत से संबंधित सामानों का भी नुकसान कर रहे थे. अधिकारी ने आगे कहा कि लोगों ने बंदरों के उत्पात के बारे में बात करते हुए कहा था कि यदि इनकी संख्या को अभी नियंत्रित में नहीं किया गया तो समस्या आने वाले समय में भयानक रूप ले सकती है और इंसान का बंदरों से संघर्ष बुरा हो सकता है.

ये भी पढ़े:- खुशखबरी: बंदरों पर ट्रायल में सफल साबित हुईं ये 4 कोरोना वैक्सीन, जल्द ही इंसानों को देने की तैयारी