मजहब की दीवार तोड़ 37 साल से यह मुस्लिम शख्स गांव में करा रहा दुर्गा पूजा का आयोजन

ओडीशा में से एक ऐसे मुस्लिम व्यक्ति की कहानी सामने आई है जिसे सुनकर हर कोई हैरान रह गया है। ओडिशा का यह मुस्लिम व्यक्ति 37 सालों से दुर्गा पूजा का आयोजन कर रहा है और इस शख्स को आसपास क्षेत्रों में बहुत ही सम्मान दिया जाता है। इस मुस्लिम शख्स ने मजहब की दीवार तोड़ कर यह मिसाल कायम की है।

0
455
Mata Rani

Navratri Puja: नवरात्रि के दिन माता दुर्गा की पूजा का भव्य आयोजन किया जाता है घर घर से लेकर मंदिरों में ढोल नगाड़े से माता रानी की पूजा अर्चना की जाती है। हिंदू धर्म के लोग नवरात्रि में व्रत रखकर माता रानी की पूजा का भव्य आयोजन किया जाता है। लेकिन इन दिनों एक खबर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। आप लोगों ने आज तक हिंदू धर्म में माता रानी की पूजा अर्चना तो देखी होगी। लेकिन एक शख्स ऐसा है जो गंगा जमुनी तहजीब को कायम रखते हुए माता रानी की भव्य पूजा का आयोजन कर रहा है। ओडीशा में से एक ऐसे मुस्लिम व्यक्ति की कहानी सामने आई है जिसे सुनकर हर कोई हैरान रह गया है। ओडिशा का यह मुस्लिम व्यक्ति 37 सालों से दुर्गा पूजा का आयोजन कर रहा है और इस शख्स को आसपास क्षेत्रों में बहुत ही सम्मान दिया जाता है। इस मुस्लिम शख्स ने मजहब की दीवार तोड़ कर यह मिसाल कायम की है।

37 साल से गांव में करा रहे है भव्य पूजा का आयोजन

दरअसल यह कहानी ओडीशा के एक गांव में रहने वाले युवक की है। जो लगभग 37 सालों से गांव में दुर्गा पूजा का भव्य आयोजन करा रहे हैं। इस शख्स का नाम कोहिनूर इस्लाम है इन्होंने अपने गांव में पहली बार दुर्गा पूजा की शुरुआत कराई Mata Raniथी क्योंकि गांव के लोग बाहर दूसरे गांव में दुर्गा पूजा देखने जाते थे। गांव में होने वाली दुर्गा पूजा की सीमित करीब 500 सदस्यों की है। ओडीशा के गंगराज गांव के रहने वाले कोहिनूर इस्लाम ने दुर्गा पूजा मेला का आयोजन करवाया था और यह 37 सालों से गांव में पूजा हो रही है और आज भी यही गांव की पूजा का नेतृत्व करते आ रहे हैं।

इस साल भी चल रही है पूरे गांव में दुर्गा पूजा की धूमधाम से तैयारी

हर साल की तरह गांव में दुर्गा पूजा के लिए सभी लोगों ने मिलकर धूमधाम से तैयारी की है। दुर्गा पूजा के लिए पंडाल बनाए गए हैं । हर साल की तरह इस साल भी इस उत्सव को काफी जोश के साथ मनाया जा रहा है। कोहिनूर इस्लाम ही Mata Rani.नहीं बल्कि उनकी दोनों बेटियां भी उनके इस काम में सहयोग करती हैं। उस समय उनकी दोनों बेटियां भी उनकी पूरी मदद करती हैं। वही गांव में इन्हें सम्मान भी काफी दिया जाता है। इस व्यक्ति ने ऐसा करके गंगा जमुनी तहजीब को कायम कर दिया है|

Read Moe-नवरात्र में ही पहुंच जाएगी PM किसान योजना की 12वीं किस्त, अगर नहीं किया ये काम तो रुक जाएगा पैसा