सभी कुर्सी पर बैठे रहे, लेकिन दलित महिला को फर्श पर बैठाया, वीडियो हुआ वायरल

275

देश की आजादी को अब सात दशक से भी ज्यादा होने जा रहे हैं। इस दौर में दलितों के उत्थान व उन्नति के लिए अनेकों कानून बनाए गए लेकिन आज भी दलितों के साथ भेदभाव के कई ऐसे मामले सामने आते रहते हैं, जो हमारी मानवीय संवेदनाओं को झकझोरने का काम करते हैं। इस बीच दलित महिला के साथ भेदभाव का एक ऐसा मामला तमिलनाडु के कुड्डलोर से सामने आया है, जहां पर बैठक के दौरान एक पंचायत अध्यक्ष ने दलित को महिला को बैठने के लिए कर्सी तक नहीं दिया बल्कि उसे मजबूर किया गया कि वो कुर्सी पर नहीं बल्कि फर्श पर बैठे। लिहाजा इन सब स्थितियों का नतीजा रहा कि बैठक के दौरान जहां सभी कुर्सी पर बैठे रहें तो वहीं वो दलित महिला फर्श पर बैठे सभी का मुंह ताक रही थी। ये भी पढ़े :यूपी से फिर आई दिल दहला देने वाली खबर, 14 साल की दलित लड़की की ईंट-पत्थर से हत्या

वीडियो हुआ वायरल
इस बीच इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल  हो रहा है। लोग इस पूरे घटनाक्रम की जमकर आलोचना कर रहे हैं। फिलहाल यह पूरा मामला अब पुलिस के संज्ञान में पहुंच चुका है। पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। इस पूरे मामले की जांच शुरू कर दी गई है। आरोपों की पुष्टि होने पर पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा सकती है। बताया जा रहा है कि आरोपित के खिलाफ एससी/एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज हो सकता है।

गौरतलब है कि आजादी के सात दशक के बाद अभी भी दलितों के साथ भेदभाव का सिलसिला नहीं थमा है। यह सिलसिला अभी भी जारी है। जिस पर  पुलिस प्रशासन ने भले ही सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिलाता हो,  मगर जमीनी हकीकत  इन सभी स्थितियों से जुदा होती हुई नजर आ रही है। हालांकि, बात ऐसी नहीं है कि सरकार ने इन सभी मामलों पर अंकुश लगाने के लिए कानून का सहारा नहीं लिया गया है, बल्कि इससे पहले एससी/एसटी एक्ट का गठन किया गया है, मगर फिर भी यह सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। ये भी पढ़े :बस्तीः नाबालिग दलित लड़की के साथ युवक ने घर में घुसकर किया रेप, पुलिस ने किया गिरफ्तार