sun

नई दिल्‍ली। आप सभी जानते हैं की सूर्य (Sun) एक आग गोला है। जिसके भीतर एक बड़ा विस्‍फोट हुआ है। यह 2017 के बाद से अब तक का सबसे बड़ा विस्‍फोट (Biggest Explosion) है। इस विस्फोट का नासा ने वीडियो जारी किया है। इस विस्‍फोट के कारण 3 जुलाई को सूर्य की सतह पर मजबूत सोलर फ्लेयर देखा गया था। विस्‍फोट के बाद एक्‍स-रे किरणें प्रकाश की गति से पृथ्वी की तरफ आईं और हमारे वायुमंडल के ऊपरी हिस्‍से से टकरा गईं थीं। इसी वजह से अटलांटिक महासागर और उसके तटीय क्षेत्रों में एक शॉर्टवेव रेडियो ब्लैकआउट हुआ है।

खबरों के अनुसार यह पिछले 4 में ब्रह्मांड में हुई सबसे बड़ा विस्फोट हुआ। नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (NASA) द्वारा जारी किए गए वीडियो में सूरज के ऊपरी दाहिने हिस्‍से से बड़े पैमाने पर सोलर फ्लेयर निकलती हुई देखा गया है। सोलर फ्लेयर (Solar Flare) को सौर तूफान भी कहा जाता है। यह सूर्य पर बने काले धब्‍बों से निकलते हैं। यूएस स्पेस वेदर प्रेडिक्शन सेंटर (SWPC) के अधिकारियों ने बताया यह काला धब्‍बा (Sunspot) रातोंरात बन गया था। इस धब्बे को AR2838 नाम दिया गया है और इस घटना को X-1 क्लास इवेंट।

खगोलशास्त्री डॉ.टोनी फिलिप्स के अनुसार ‘यह सनस्पॉट ऐसे बना जैसे साफ आसमान में अचानक तेजी से बादल घुमड़ने लगे हों। यह सनस्‍पॉट एक दिन पहले कहीं नजर नहीं आया था और ना ही ऐसी किसी सौर गतिविधि की उम्‍मीद की गई थी। ‘उन्होंने Spaceweather.com पर लिखा था, ‘ऐसे और भी आगे सौर तूफान आने की आशंका जताई जा रही है।’

नासा ने बताया सूर्य में बने काले धब्‍बों से बेहद अधिक ऊर्जा निकलती है। यह ऊर्जा ज्‍वाला की तरह नजर आती है, जिन्‍हें सौर तूफान कहते हैं। सौर तूफानों का ब्‍लास्‍ट होना सौर मंडल की सबसे बड़ी विस्फोटक घटनाओं में से एक है, जो कि कुछ मिनटों से लेकर कई घंटों तक होते हैं। खबरों के अनुसार AR2838 सनस्‍पॉट जितनी तेजी से बना था, वैसे ही गायब भी हो गया।

इसे भी पढ़ें:- मोहन भागवत के बहाने शिवसेना ने बीजेपी पर किया हमला, हिंदू-मुस्लिम डीएनए पर पूछा ये सवाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here