बड़ा खुलासा: उधर भूमि पूजन चल रहा था, इधर दंगा भड़काने की साजिश में जुटे थे ये लोग 

4477

चौतरफा खुशी की लहर के बीच आज राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त हो चुका है। दशकों का इंतजार अब अपने विराम स्थल पर पहुंच चुका है, लेकिन आप यह जानकर दंग रह जाएंगे कि इस दिन कुछ असामाजिक तत्व के लोग दंगे भड़काने की फिराक में लगे हुए थे। इन असामाजिक तत्व के लोगों ने इसकी पूरी प्लानिंग भी कर ली थी, मगर इससे पहले इन तमाम प्लानिंग को ध्वस्त करते हुए सुरक्षा एजेंसियों ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया और इनके पूरे नपाक मंसूबों का भंडाफोड़ कर दिया। खबर है कि पुलि़स इस मामले से जुड़े तीन लोगों को अब तक गिरफ्तार कर चुकी है। मिली जानकरी के मुताबिक एक शख्स को लखनऊ से, और बाकी के लोगों को बहराइच से गिरफ्तार किया गया है।

ये भी पढ़े :मुगलकाल में जिन 50 परिवारों को जबरन बनाया मुस्लिम, राम मंदिर की नींव डलते ही बन गए हिंदू

सुरक्षा एजेंसियों के मुताबिक, यह सभी लोगों गत 5 अगस्त को अयोध्या में भूमि पूजन के दौरान दंगे भड़काने की फिराक में थे। इसके लिए इन्होंने पूरी प्लानिंग भी तैयार कर ली थी, जिसके तहत इन्होंने वाट्सएप, फेसबुक और ट्विटर पर ग्रुप भी बनाए थे। इन लोगों ने तमाम सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अभियान भी छेड़ दिया था। सुरक्षा एजेंसियों  ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया से ताल्लुक रखने वाले तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार हुए शख्स का नाम अब्दुल मजीद कोकारी बताया जा रहा है। वह मूल रूप से दिल्ली का रहने वाला है, लेकिन 5 अगस्त को विशेष रूप से यूपी आया था। इस मामले में जब सुरक्षा एजेंसियों  ने बहराइच से तीन लोगों को गिरफ्तार किया था।  ये डॉ. अलीम अहमद, साहिबे आलम, कमरुद्दीन हैं।

इतना ही नहीं, बाबरी लैंड टू मुस्लिम और रिस्टोर आर्टिकल-370 नाम से इन लोगों ने एक अभियान शुरू किया था। पुलिस ने मजीद के पास से मोबाइल फोन भी गिरफ्तार किया है। जिसमें कई  खुलासे हुए हैं। फोन की जांच पड़ताल से पता चला है कि इन लोगों ने दंगे भड़काने के लिए सोशल मीडिया पर कई भड़काऊ पोस्ट भी डाले थे। ये भी पढ़े :भारत ने की पाकिस्तान की जमकर खिंचाई, राम मंदिर पर दिया था ऐसा बयान