टिकटॉक पर वीडियो बनाकर बुरी फंसी बेली डांसर, कोर्ट ने लगाया 14 लाख का जुर्माना! होगी 3 साल जेल

0
147
कोर्ट

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो का ट्रेंड अपने चरम पर है, और जब बात वीडियो इफेक्ट और लाइटनेस की आती है तो टिकटॉक इन सबमें सबसे आगे हैं. दरअसल हर कोई आज टिकटॉक का दीवाना हुआ पड़ा है, जहां देखो चारों तरफ टिकटॉक वीडियो की भरमार है. सोशल मीडिया तो बना ही वायरल वीडियो के लिए है. लेकिन इन दिनों टिकटॉक बनाने वालों पर काहिरा की कोर्ट ने भारी जुर्माना लगा रखा है. जी हां, टिकटॉक पर जुर्माना! दरअसल टिकटॉक पर वीडियो बनाने वाली मिस्र की एक हाई प्रोफाइल बेली डांसर सामा एल-मैसी को सोशल मीडिया पर अनैतिक और उत्तेजित वीडियो पोस्ट करना भारी पड़ गया. जिसके बाद काहिरा की कोर्ट ने उनपर भारी भरकम जुर्माना लगा दिया. यही नही इसके साथ जेल का भी फरमान जारी किया है. बता दें कि मशहूर (TIK-TOK) डांसर पर उत्तेजित वीडियो पोस्ट करने के आरोप पर करीब 30 हजार पाउंड का जुर्माना लगाया है, जिसका भारतीय मूल्य 14 लाख रुपये है.

ये भी पढ़ें:-Tik Tok स्टार सिया कक्कड़ की मौत पर बड़ा खुलासा, परिवारवालों ने बताया चौंकाने वाला सच

बता दें कि काहिरा के अदालत ने शनिवार को फैसला सुनाते हुए कहा कि उसने “अनैतिकता” फैलाने के उद्देश्य से सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर किया. दोषी ने मिस्र में परिवार के सिद्धांतों और मूल्यों का उल्लंघन किया था.

model

इससे पहले अल-मैसी को अप्रैल में सोशल मीडिया पर वीडियो और तस्वीरों की जांच के दौरान गिरफ्तार किया गया था. उन्होंने अपने वीडियो को लोकप्रिय वीडियो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म टिकटॉक पर शेयर किया था जिसमें सार्वजनिक रूप से लोगों की उत्तेजना को बढ़ाने का आरोप लगाया गया था.

model

वहीं 42 वर्षीय बेली डांसर ने इन आरोपों को अस्वीकार करते हुए खुद को निर्दोष बताया है. उन्होंने कहा कि फोन से वो वीडियो चोरी कर ली गई थी और बिना सहमति के साझा की गई थी. जिसकी उन्हें जानकारी नहीं थी, हालांकि कोर्ट के इस फैसले को लेकर वहां के संसद दस्य जॉन तलाट ने कहा, “स्वतंत्रता और भ्रामकता के बीच बहुत बड़ा अंतर है. एल-मैसी और अन्य महिलाएं सोशल मीडिया पर वीडियो डालकर पारिवारिक मूल्यों को बर्बाद कर रही थीं जो संविधान के खिलाफ है.

ये भी पढ़ें:-कोरोना महामारी के बीच स्वास्थ्य मंत्री हुए गिरफ्तार, किया था ये बड़ा घपला!