जानिए किन रस्मों के साथ होता है किन्नरों का अंतिम संस्कार, आखिर क्यों हैं गैर लोगों को देखने की मनाही

0
7391
kinner
Loading...

किन्नरों के बारे में आपने सुना भी होगा और उन्हें अपने आस-पास देखा भी होगा. किन्नरों की दुनिया आम इंसानों से बिल्कुल अलग होती है. वो आम इंसानों के समाज में शामिल होने से कतराते हैं और लोग भी उन्हें अपने समाज में वो इज्जत नहीं दे पाते जो और लोगों को मिलती है. अक्सर आपने देखा होगा कि जब भी किसी घर में किसी की शादी होती है या फिर किसी के घर में बच्चे का जन्म होता है तो किन्नर अचानक से ही घर आ जाते हैं और नाच गाने के साथ बच्चे और शादी जोड़े को अपनी दुआएं देते हैं.

Eunuchs

कहा जाता है कि किन्नरों की दुआओं में बड़ी शक्ती होती है. यही वजह है कि कोई भी उनकी बद्दुआ नहीं लेना चाहता. इसलिए जब भी वो घर पर बच्चे को आशिर्वाद देने आती हैं तो लोग उन्हें उनकी मांग के अनुसार बख्शीश देकर विदा करते हैं. लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि किन्नरों की मृत्यु के बाद उनका अंतिम संस्कार कैसे किया जाता है. वैसे बहुत कम ही लोग इस बारे में जानते हैं. आज हम अपनी खबर में यही बताएंगे कि किन रस्मों के साथ किन्नरों का अंतिम संस्कार किया जाता है.

kinner

कई मान्यताओं के मुताबिक ये कहा जाता है कि कुछ किन्नरों के पास आध्यात्मिक शक्ति होती है. इसलिए उनकी मृत्यु होने से पहले ही उन्हें इस बात का आभास हो जाता है. जिसके बाद किन्नर कहीं भी आना-जाना बंद करते हैं. यहां तक कि अन्न का त्याग कर सिर्फ पानी पीकर ईश्वर से दूसरी किन्नरों के लिए दुपआ करती हैं कि अगले जन्म में वो किन्नर न हों. क्योंकि मान्यता है कि मरते हुए किन्नर के मुंह से निकले हुए शब्द में बड़ी ताकत होती है. इसलिए बहुत से लोग मरते हुए किन्नर से आशिर्वाद लेने आते हैं.

Indian-Eunuchs

लेकिन किन्नर इस बात का खास ध्यान रखते हैं कि कि मरते हुए किन्नर की खबर किसी और को न लगे. क्योंकि कहा जाता है कि मरे हुए किन्नर को यदि कोई आम इंसान देख लेता है तो वो अगले जन्म में फिर से किन्नर ही पैदा होता है. इसके किन्नर इस बात का भी खास ध्यान रखते हैं कि किन्नर के अंतिम संस्कार वाली खबर के बारे में किसी को भी न पता लगे.

kinner

बता दें कि मरे हुए किन्नर को पूरे गुप्त तरीके से दफनाया जाता है. इस बारे में सिर्फ अधिकारियों को जानकारी होती है, क्योंकि किन्नरों को जलाया नहीं बल्कि दफनाया जाता है. इनके यहां एक और रस्म होती है. जिसके अनुसार मृत किन्नर को रात में जूते-चप्पल मारते हुए दफनाने के लिए ले जाया जाता है, ताकि अगले जन्म में वो किन्नर न हो या फिर इस जन्म में कोई पाप किया हो तो उसके पाप धुल जाएं. इसके अलावा इनके यहां ये भी परंपरा है कि मृत किन्नरों को चार कंधों पर नहीं बल्कि शव को खड़ा करके ले जाया जाता है. ताकि न्के शरीर को कोई देख न सके.

how-do-funerals-of-kinnar

मृत किन्नर को दफनाने के बाद सभी किन्नर एक हफ्ते तक उपवास रखते हैं, और उसके लिए दुआ करते हैं कि अगले जन्म में वो आम इंसान की तरह कहीं जन्म ले. इसके साथ ही मरे हुए किन्नर के मुंह में किसी नदी के पानी डालने का भी रिवाज है. इसके अलावा मरे हुए किन्नर के अंतिम संस्कार में कोई आम इंसान न पहंचे इसके लिए किन्नर बड़ा जतन करते हैं. यदि कोई इंसान छुप के देखने की कोशिश भी करता है तो किन्नर उसे नहीं बख्शते.ये भी पढ़ें किन्नरों को दान देते समय बस, इस्तेमाल कर दीजिए ये शब्द लॉटरी लग जाएगी 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here